Sun. Jan 23rd, 2022

डब्ल्यूएचओ की चेतावनी, यूरोप में कोरोना से हो सकती है 7 लाख लोगों की मौत


जिनेवा, 24 नवंबर (हि.स.)। विश्व की शीर्ष स्वास्थ्य इकाई विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और विशेषज्ञ यूरोप में तेजी से बढ़ते कोरोना के मामलों से हैरान हैं। डब्ल्यूएचओ ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि अगर यूरोप में कोविड-19 संक्रमण के मामले ऐसे ही बढ़ते रहे तो आने वाले महीनों में सात लाख लोगों की मौत हो सकती है।

डब्ल्यूएचओ के यूरोप कार्यालय के अनुसार पूर्वानुमानों के मुताबिक महाद्वीप के 53 देशों में आने वाले महीनों में कोरोना वायरस महामारी से सात लाख और लोगों की मौत हो सकती है, जिससे संक्रमण से मौत के कुल मामले 20 लाख से ज्यादा हो सकते हैं।

डब्ल्यूएचओ ने संक्रमण से सुरक्षा के उपायों में कमी और टीकों से मामूली बीमारियां सामने आने के बढ़ते साक्ष्यों का हवाला दिया। साथ ही कहा कि कमजोर इम्युनिटी वाले लोगों, 60 साल से अधिक उम्र के लोगों तथा स्वास्थ्य कर्मियों समेत सबसे अधिक संवेदनशील आबादी को टीके की बूस्टर खुराक देने में प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

हालांकि, जिनेवा में डब्ल्यूएचओ के अंतरराष्ट्रीय मुख्यालय ने साल के अंत में बूस्टर खुराकों के उपयोग पर रोक की बार-बार वकालत की है ताकि उन अनेक विकासशील देशों के लिए खुराक उपलब्ध कराई जा सकें, जहां अमीर देशों की तुलना में कोविड रोधी टीकों की कमी रही है।

डब्ल्यूएचओ ने यूरोप के लोगों से टीका लगवाने तथा उचित साफ-सफाई का ध्यान रखने का अनुरोध करते हुए आपस में एक निश्चित दूरी बनाकर रखने को कहा है, ताकि वायरस को फैलने से रोका जा सके।