Sun. Jul 5th, 2020

अपराध की दुनिया से करोड़ों कमाने के बाद ग्राम प्रधान बनने की तैयारी कर रहा था शातिर जावेद


सपने पूरे करने के लिए अपराध की दुनिया में रखा कदम, एटीएस और हापुड़ ने पकड़ा था जावेद पर  मेरठ, पंजाब में लूट और हत्या जैसे संगीन अपराधों में दर्ज हैं मुकदमें 



हापुड़, 08 जून (हि.स.)। उत्तर प्रदेश एटीएस और स्थानीय पुलिस की गिरफ्त में रविवार को आया जावेद एक शातिर बदमाश है। उसके विरुद्ध जनपद मेरठ के थाना किठौर और पंजाब में कई संगीन मुकदमें दर्ज हैं। एक गरीब परिवार में पैदा हुआ जावेद आज करोड़ों का मालिक है। वह लगभग 15 वर्षों से अपराध की दुनिया से जुड़ा हुआ है।
पुलिस के मुताबिक ग्राम राधना निवासी टुइंया गांव में ही चाय की दुकान करता था। टुइंया के तीन पुत्र हैं सुलेमान, रिजवान और जावेद। जावेद इनमें सबसे छोटा है। उनके पास गांव में ही लगभग दस बीघा कृषि भूमि थी। परिवार में आय का स्रोत कम होने और बड़े सपने देखने के कारण सुलेमान और जावेद छोटी-मोटी चोरी और राहजनी करने लगे। इन दोनों के विरुद्ध थाना किठौर में कई मुकदमे दर्ज हैं। सुलेमान तो अपराध की दुनिया में आगे नहीं बढ़ पाया लेकिन जावेद के संबंध धीरे-धीरे जनपद मेरठ के बड़े बदमाशों से हो गए और वह लूट और हत्या जैसे अपराधों को अंजाम देने लगा। जावेद के विरुद्ध थाना किठौर और पंजाब में हत्या और लूट सहित कई संगीन मुकदमें दर्ज हैं।
लगभग बीस वर्ष पहले तक इस परिवार की आर्थिक स्थिति बेहद कमजोर थी। अपराध की दुनिया में आगे बढ़ते हुए लगभग दस वर्ष पूर्व उसके सम्बन्ध खालिस्तान लिबरेशन फ्रंट के आतंकवादियों से हो गये। वह अपने साथी जनपद मेरठ के जानी थाना क्षेत्र के गांव टिकारा निवासी आशीष के साथ आतंकियों को अवैध हथियारों की आपूर्ति करने लगा। इस अवैध धंधे से उसने थोड़े ही समय में करोड़ों रुपये कमा लिए। इस धन से उसने गांव में लगभग 50 बीघे कृषि भूमि और मेरठ में प्लाॅट खरीद लिए। वह वर्तमान में अपने गांव में तीन मंजिला आलीशान मकान बनवा रहा है। उस मकान में पत्थर लगवाने के लिए मार्बल के पत्थर के दामों की जानकारी करने शातिर जावेद रविवार को हापुड़ आया था।
गांव वासियों का कहना है कि विगत पांच-छह वर्ष से उसके रहन-सहन का स्तर काफी बदल गया था। उसने कार खरीद ली और अक्सर आने-जाने के लिए कार का ही प्रयोग करता था। वह अक्सर गांव के जरूरतमंद लोगों की मदद भी करता रहता था। इस बार वह ग्राम प्रधान का चुनाव लड़ने का इरादा बना रखा था। इस सम्बन्ध में उसने अपना प्रचार करना भी शुरू कर दिया था। अपराध की दुनिया से वह राजनीति में प्रवेश करना चाहता था। इस कारण उसने राजनेताओं से सम्पर्क बनाने भी शुरू कर दिए थे। अब एटीएस की टीम उससे पूछताछ कर रही है।
उल्लेखनीय है कि एटीएस टीम और हापुड़ पुलिस ने रविवार को गढ़ मार्ग से जावेद को गिरफ्तार किया था। वह मेरठ जनपद में थाना किठौर के गांव राधना निवासी का निवासी है। उस पर खालिस्तान लिबरेशन फ्रंट के आतंकवादियों को अवैध रूप से हथियारों की आपूर्ति करने का आरोप है।