Mon. Aug 2nd, 2021

थावरचंद गहलोत ने कर्नाटक के राज्यपाल पद की ली शपथ


बेंगलुरु, 11 जुलाई (हि.स.)। पूर्व केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत ने रविवार को कर्नाटक के 19वें राज्यपाल के रूप में पद एवं गोपनीयता की शपथ ली। कर्नाटक हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश ए.एस. ओका ने राजभवन में गहलोत को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। गहलोत ने शपथ ईश्वर को साक्षी मानकर ली।

इस अवसर पर निवर्तमान राज्यपाल वजुभाई वाला, मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा, उनके मंत्रिपरिषद के सहयोगी, अन्य जनप्रतिनिधि और राज्य सरकार के अधिकारी उपस्थित थे। शपथग्रहण के बाद मुख्य न्यायाधीश ओका, वजुभाई वाला और येदियुरप्पा ने नए राज्यपाल को बधाई दी।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 73 वर्षीय गहलोत को कर्नाटक का नया राज्यपाल नियुक्त किए जाने की घोषणा 06 जुलाई को की थी। इसके पहले गहलोत केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थे। इसके साथ ही राज्यसभा में सदन के नेता थे। गहलोत मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले में स्थित विक्रम विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। उनका जन्म 18 मई 1948 को उज्जैन जिले के नागदा में एक दलित परिवार में हुआ था। उनके माता-पिता का नाम क्रमशः सुमन बाई और रामलाल गहलोत था।

गहलोत ने अपने सार्वजनिक जीवन की शुरुआत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक के रूप में की। इसके बाद उन्होंने भाजपा के पूर्ववर्ती संगठन भारतीय जनसंघ से 1962 में अपनी राजनीतिक पारी की शुरुआत की। भाजपा में वह कई प्रमुख पदों पर रहे। गहलोत पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और कर्नाटक के प्रभारी भी रह चुके हैं। वह 1996 से 2009 तक लोकसभा के लिए लगातार निर्वाचित हुए। सांसद बनने से पहले वह तीन बार विधायक भी रह चुके थे। वह मध्यप्रदेश से राज्यसभा के लिए पहली बार अप्रैल 2012 में निर्वाचित हुए थे। आपातकाल के दौरान जेल में रहे।