Tue. Nov 30th, 2021

भारत-म्यांमार-थाईलैंड त्रिपक्षीय राजमार्ग से जुड़ेगा कोलकाता – थाई राजदूत


कुशीनगर,18 सितम्बर(हि.स.)। भारत में थाईलैंड के राजदूत पट्टारट होंगटोंग ने कहा है कि महत्वाकांक्षी भारत-म्यांमर-थाईलैंड त्रिपक्षीय अंतरराष्ट्रीय मार्ग से इंडो-थाई-म्यांमार के सम्बंध और प्रगाढ़ होंगे।

उन्होंने कहा कि सड़क के पूर्ण हो जाने से तीनों देशों के बीच व्यापार, पर्यटन और सांस्कृतिक आदान प्रदान बढ़ेगा। तीनों देश संयुक्त रूप से करीब 1,400 किलोमीटर लंबे इस राजमार्ग पर काम कर रहे हैं। थाईलैंड व म्यांमार के सड़क मार्ग से भारत से जुड़ जाने से तीनों देश के कारोबार, व्यापार, स्वास्थ्य, शिक्षा और पर्यटन क्षेत्र को भारी वृद्धि हासिल होगी। थाई राजदूत शनिवार को कुशीनगर में पत्रकारों से बातचीत कर रही थीं।

उन्होंने कहा कि कुशीनगर इंटरनेशनल एयरपोर्ट से उड़ान शुरू हो जाने से थाई वासियों को काफी सुविधा मिल जाएगी। थाई सरकार जल्द ही भारत सरकार से बात कर शीघ्र उड़ान शुरू करने की बात करेगी। कोविड-19 की समाप्ति के बाद कोशिश होगी कि थाईलैंड- कुशीनगर उड़ान सेवा शुरू जल्द शुरू हो। राजदूत ने एक सवाल के जवाब में कहा कि अफगानिस्तान से सभी थाई नागरिकों को सकुशल वापस बुला लिया गया है।

उन्होंने बताया कि थाई बुद्धिस्ट मोनास्ट्री कुशीनगर में अस्थाई रूप से पासपोर्ट कार्यालय में कार्य चलता रहेगा। थाई दूतावास दिल्ली में कर्मचारियों की संख्या कम है। इसलिए यहां स्थाई पासपोर्ट कार्यालय फिलहाल स्थापित करना संभव नहीं है। स्थाई कार्यालय के लिए भविष्य में विचार किया जाएगा। राजदूत ने बताया कि कुशीनगर में दो दिनों के लिए खुले पासपोर्ट कार्यालय में लगभग चार दर्जन थाई पासपोर्ट संबंधी कार्य हुआ है।

त्रिपक्षीय हाईवे पर चलेगा तीनों देशों का ट्रैफिक

त्रिपक्षीय हाईवे पर भारत, म्यांमार व थाईलैंड का ट्रैफिक एक साथ चलेगा। हाईवे भारत के पूर्वी इलाके के मोरेह से म्यांमार के तामू शहर जाएगा। राजदूत शनिवार को थाई बुद्धिस्ट मोनास्ट्री में पत्रकारों से वार्ता के दौरान उक्त बात कही।

उन्होंने कहा कि निर्माणाधीन 14 सौ किलोमीटर इंडिया-म्यांमार-थाईलैंड त्रिपक्षीय राजमार्ग भारत के मणिपुर के मोरे से म्यांमार के तामू शहर होते हुए थाईलैंड के मेई सेत जनपद के ताक तक जाएगा। थाईलैंड में रोड निर्माण का काफी कार्य हो चुका है। भारत व म्यांमार के मध्य सड़क का निर्माण हो रहा है। थाईलैंड म्यांमार का सहयोग कर तेजी से निर्माण कार्य कराएगा। भविष्य में यह रोड कोलकाता तक जाएगा।