Sat. Sep 18th, 2021

पाकिस्तान-ईरान की सीमा पर फंसे हजारों लोग, ब्रिटेन ने तालिबान से की बात

Taliban fighters stand guard inside the Hamid Karzai International Airport after the U.S. withdrawal in Kabul, Afghanistan, Tuesday, Aug. 31, 2021. The Taliban were in full control of Kabul's international airport on Tuesday, after the last U.S. plane left its runway, marking the end of America's longest war. (AP Photo/Kathy Gannon)


काबुल, 01 सितम्बर (हि.स.)। काबुल हवाईअड्डा अब पूर्ण रूप से तालिबान के कब्जे में आ गया है। इस कारण हवाईअड्डे से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों का संचालन बंद है। ऐसा होने से अफगानिस्तान छोड़ने वाले हजारों की संख्या में लोगों की भीड़ पाकिस्तान-ईरान की सीमा पर एकत्रित हो गई है।

पाकिस्तान के खैबर पास बॉर्डर पर हजारों की संख्या में लोग अफगानिस्तान की ओर खड़े हैं, जो पाकिस्तान जाना चाहते हैं। कुछ ऐसा ही आलम अफगानिस्तान-ईरान की सीमा पर इस्लाम काला बॉर्डर पोस्ट पर भी बना हुआ है। करीब सवा लाख से अधिक लोगों ने बीते 15 दिनों में अफगानिस्तान छोड़ा है। संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के अनुसार इस साल के अंत तक ही पांच लाख से अधिक लोग अफगानिस्तान छोड़ सकते हैं।

इस स्थिति को देखते हुए ब्रिटेन ने तालिबान के साथ बात शुरू कि है कि वह वहां पर बचे हुए यूके के नागरिकों के लिए सुरक्षित रास्ता इख्तियार करे। ब्रिटेन की ओर से पाकिस्तान, उज्बेकिस्तान, ताजिकिस्तान में अपनी टीमों को तैनात किया गया है, जो अफगानिस्तान से ब्रिटिश नागरिकों को निकालने में मदद करेंगे।

अफगान ट्रांजिशन के लिए प्रधानमंत्री की विशेष प्रतिनिधि सर साइमन गैस ने दोहा की यात्रा की है और तालिबान के वरिष्ठ प्रतिनिधियों के साथ ब्रिटिश नागरिकों और उन अफगानों के लिए अफगानिस्तान से सुरक्षित मार्ग के महत्व को रेखांकित करने के लिए बैठक कर रहे हैं, जिन्होंने पिछले 20 वर्षों में उनके साथ काम किया है।