Wed. Sep 22nd, 2021

तालिबान ने किया अंतरिम सरकार का ऐलान, मुल्ला हसन अखुंद होंगे प्रधानमंत्री


काबुल, 08 सितंबर (हि.स.)। अफगानिस्तान में तालिबान की वापसी के बाद पिछले कई दिनों से सरकार के गठन को लेकर जारी कयास मंगलवार देर शाम मुल्ला हसन अखुंद के नेतृत्व में अंतरिम सरकार बनाये जाने का ऐलान किये जाने के साथ ही समाप्त हो गए। संयुक्त राष्ट्र की आतंकी सूची में शामिल अखुंदजादा को प्रधानमंत्री बनाए जाने की घोषणा की गई है। गृह मंत्री बनाये गए सिराजुद्दीन हक्कानी की गिरफ्तारी के लिए अमेरिका ने पांच मिलियन डॉलर का इनाम घोषित कर रखा है।

तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने अंतरिम सरकार बनाने की घोषणा करते हुए एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि मुल्ला मुहम्मद हसन अखुंद सरकार के मुखिया होंगे। प्रधानमंत्री के लिए सबसे प्रबल दावेदार मुल्ला अब्दुल गनी बरादर को उपप्रधानमंत्री बनाया गया है। इसके साथ ही मुल्ला अब्दुल सलाम हनफी दूसरे उपप्रधानमंत्री होंगे। कैबिनेट में कुल 33 मंत्री होंगे जिसमें एक भी महिला नहीं है। हक्कानी नेटवर्क के सिराजुद्दीन हक्कानी को गृह मंत्रालय दिया गया है। यूनाइटेड स्टेट्स डिपार्टमेंट ऑफ़ स्टेट के रिवॉर्ड्स फॉर जस्टिस प्रोग्राम ने सिराजुद्दीन हक्कानी की गिरफ्तारी के लिए सीधे सूचना देने पर पांच मिलियन डॉलर का इनाम घोषित कर रखा है।

अंतरिम सरकार में मुल्ला याकूब को रक्षा मंत्री बनाया गया है। खैरउल्लाह खैरख्वा को सूचना मंत्री का पद दिया गया है। अब्दुल हकीम को न्याय मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई है। शेर अब्बास स्टानिकजई को डिप्टी विदेश मंत्री बनाया गया है। जबिउल्लाह मुजाहिद को सूचना मंत्रालय में डिप्टी मंत्री की कमान दी गई है। प्रधानमंत्री पद के लिए मुल्ला हसन अखुंद का नाम अमीरुल मोमिनीन शेख हैबतुल्ला अखुंजादा ने प्रस्तावित किया। शेख हैबतुल्ला अखुंजादा खुद अफगान के सुप्रीम लीडर होंगे। मुल्ला हसन अखुंद को 20 साल से शेख हैबतुल्ला अखुंजादा के करीबी होने का इनाम प्रधानमंत्री पद के रूप में मिला है।

संयुक्त राष्ट्र की सूची में आतंकी है अखुंदजादा

मुल्ला हसन अखुंद इस वक्त रहबारी शूरा के मुखिया हैं। रहबारी शूरा तालिबान की सबसे शक्तिशाली निर्णय लेने वाली संस्था है। मुल्ला हसन अखुंद का जन्म कंधार में हुआ है। सशस्त्र आंदोलन की शुरुआत करने वाले लोगों में मुल्ला हसन शामिल थे। हसन का नाम संयुक्त राष्ट्र की आतंकी सूची में भी शामिल है।

दो दिन में अखुंद ने बरादर को दी मात

मुल्ला मोहम्मद हसन अखुंद के प्रधानमंत्री की रेस में आने की चर्चा मात्र दो दिन पहले ही शुरू हुई थी। मुल्ला मोहम्मद हसन वर्तमान में तालिबान के शक्तिशाली निर्णय लेने वाले निकाय, रहबारी शूरा या नेतृत्व परिषद के प्रमुख है। मोहम्मद हसन तालिबान के जन्मस्थान कंधार से ताल्लुक रखता है और आतंकी आंदोलन के संस्थापकों में से एक है।

क्या आईएसआई ने बरादर का पत्ता काटा

जानकारों के मुताबिक प्रधानमंत्री के लिए सबसे प्रबल दावेदार मुल्ला अब्दुल गनी बरादर का पत्ता पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के चीफ मोहम्मद फैज के इशारे पर काटा गया है। पाक नहीं चाहता है कि कोई प्रभावशाली नेता तालिबान सरकार में शीर्ष पर बैठे।

कई धड़ों में विवाद

सरकार की कमान को लेकर तालिबान के दोहा गुट, कंधार गुट और आतंकी संगठन हक्कानी नेटवर्क के बीच विवाद की खबरें थीं। पिछले दिनों पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के मुखिया लेफ्टिनेंट जनरल फैज हामिद के काबुल दौरे के दौरान मुल्ला हसन अखुंद के नाम पर सहमति बनी थी।

तालिबानी अंतरिम सरकार की सूची

उप प्रधानमंत्री – मुल्ला बरादर

गृह मंत्री – सिराजुद्दीन हक्कानी

रक्षा मंत्री – मौलवी मोहम्मद याकूब

विदेश मंत्री – मौलवी आमिर खान मुतक्की

सेना प्रमुख – मुल्ला फजल अखुंदजादा सेना प्रमुख

डिप्टी चीफ ऑफ इंटेलिजेंस – मुल्ला ताज मीर जवाद

नेशनल डायरेक्टोरेट ऑफ सिक्योरिटी के प्रमुख – मुल्ला अब्दुल हक वासिक

शरणार्थी मामलों के मंत्री – खलीलउर्रहमान हक्कानी