Sun. Oct 17th, 2021

उत्तर कोरिया से तनाव के बीच दक्षिण कोरिया ने विकसित की सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल

SLBM 잠수함 발사시험 세계 7번째 성공 (서울=연합뉴스) 우리나라가 독자 개발한 잠수함발사탄도미사일(SLBM)이 15일 도산안창호함(3천t급)에 탑재돼 수중에서 발사되고 있다. 이날 발사시험은 국방과학연구소(ADD) 종합시험장에서 문재인 대통령을 비롯해 정부와 군의 주요 인사들이 참석한 가운데 이뤄졌다. SLBM은 잠수함에서 은밀하게 운용할 수 있으므로 전략적 가치가 높은 전력으로 평가된다. 현재 미국, 러시아, 중국, 영국, 프랑스, 인도 등 6개국만 운용하고 있는 무기체계로, 한국이 세계 7번째 SLBM 운용국이 됐다. 2021.9.15 [국방부 제공. 재판매 및 DB 금지] [email protected]/2021-09-15 18:50:03/


सियोल, 16 सितंबर (हि.स.)। दक्षिण कोरिया ने समुद्री रक्षा क्षमता को बढ़ाते हुए बुधवार को सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है। उत्तर कोरिया द्वारा लंबी दूरी की क्रूज मिसाइल छोड़ने के ठीक एक दिन बाद दक्षिण कोरिया ने यह सुपरसोनिक मिसाइल दागी है। इससे दोनों देशों के बीच सैन्य प्रतिस्पर्धा और बढ़ेगी।

दक्षिण कोरिया के सैन्य मंत्रालय द्वारा जारी बयान में कहा गया कि यह मिसाइल उच्च क्षमता के साथ बेहद विध्वंसकारी शक्तियों से लैस है। इसके हमारे क्षेत्रीय जल तक पहुंचने वाली ताकतों का मुकाबला करने के लिए एक मुख्य हथियार रूप में काम करने की उम्मीद है।

यह घोषणा इस सप्ताह उत्तर कोरिया के लंबी दूरी की नई क्रूज मिसाइल के सफलता पूर्वक परीक्षण के एक दिन बाद किया गया है। जो प्रक्षेपण के दो घंटे में 1500 किलोमीटर के लक्ष्य पर निशाना लगा सकती है।

पनडुब्बी से प्रक्षेपित बैलिस्टिक मिसाइल (एसएलबीएम) के सफल प्रक्षेपण की घोषणा के साथ बुधवार को सामने लाई गई दक्षिण कोरिया की सुपरसोनिक मिसाइल उत्तर कोरिया के मिसाइल श्रृंखला से बेहद तेज है।

राष्ट्रपति कार्यालय चेओंग वा डे के अनुसार, राष्ट्रपति मून जे-इन की उपस्थिति में पश्चिमी शहर ताएन में अनहेंग परीक्षण स्थल से दक्षिण कोरिया ने अपनी नई 3,000 टन की सुपरसोनिक मिसाइल का पानी के भीतर सफलतापूर्वक डोसन अहन चांग-हो पनडुब्बी से परीक्षण किया है।

अधिकारियों ने सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के बारे में नए हथियार की उड़ान रेंज संबंधी अन्य विवरण प्रदान करने से इनकार कर दिया, लेकिन कहा कि नई मिसाइल सभी दिशाओं से खतरों के खिलाफ सुरक्षा की दृष्टि से बेहद कारगर होगी।

इससे कुछ ही घंटे पहले, उत्तर कोरिया ने अपनी केंद्रीय काउंटी यांगडोक से पूर्वी सागर में दो छोटी दूरी की बैलिस्टिक मिसाइलें दागीं थी, जिन्हों 60 किमी की अधिकतम ऊंचाई पर लगभग 800 किलोमीटर की उड़ान भरी थी।