Mon. Nov 29th, 2021

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर 16 को प्रधानमंत्री मोदी के सामने होगा युद्धक विमानों का प्रदर्शन


आसपास के गांवों में विमानों की आवाजाही ग्रामीणों ग्रामीणों के लिए बना कौतूहल

 विमान की तेज गर्जना सुनकर गांव के लोग देखने के लिए घर से निकले बाहर



सुलतानपुर, 14 नवम्बर (हि.स.)। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की एयर स्ट्रिप पर रविवार को ट्रायल के तौर पर सी-130जे सुपर हरक्यूलिस विमान उतरा। विमान की तेज गर्जना से आसपास गांव के लोग देखने के लिए घर से बाहर निकल पड़े। इन दिनों ट्रायल की वजह से फाइटर प्लेन लोगों के बीच कौतूहल बने हुए हैं। तैयारियों के सिलसिले में तीन प्लेन एक्सप्रेस-वे के ऊपर चक्कर लगाए और एयर स्ट्रिप को टच करते हुए कई बार उड़ान भरी।

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर आकस्मिक स्थितियों में वायुसेना के फाइटर जेट उतारने के लिए हवाई पट्टी बनाई गई है। जुलाई, 2018 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास किया था। कोविड की दो लहरों के दौरान 20 महीने कार्य बाधित रहा। इसके बावजूद निर्माण कार्य को 36 माह में पूरा कर लिया गया। यहां बनाई गई हवाई पट्टी पर 16 नवम्बर को दोपहर 2:00 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सी-130जे सुपर हरक्यूलिस विमान से लैंड करेंगे। प्रधानमंत्री लगभग एक घंटे तक जनसभा को संबोधित करेंगे। इसके बाद वायु सेना के 30 एयरक्राफ्ट 45 मिनट तक एयर शो में हवाई करतब दिखायेंगे।

21 हजार करोड़ से तैयार हुआ एक्सप्रेस-वे

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे देश की धरोहर होगा और प्रदेश के आर्थिक ढांचे की रीढ़ साबित होगा। इसके दोनों तरफ औद्योगिक गलियारे बनाए जाएंगे, जहां मशीनरी फूड प्रोसेसिंग और मिल्क डेयरी के विकास क्षेत्र में बड़े स्तर पर रोजगार बढ़ेगा। इससे यहां के लोगों का पलायन रुकेगा। एक्सप्रेस-वे के निर्माण पर अब तक 21 हजार करोड़ रुपये से अधिक का खर्च हो चुका है। इससे बिहार व झारखंड के लोगों को भी लाभ मिलेगा। एक्सप्रेस-वे से गाजीपुर, अंबेडकरनगर, मऊ, आजमगढ़, सुल्तानपुर से दिल्ली का रास्ता कम होगा और पर्यटन का व्यवसाय भी बढ़ेगा।