Sat. Sep 18th, 2021

पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत ने सिख पंथ से माफी मांगी


चंडीगढ़ , 1 सितम्बर (हि.स.)। पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत ने सिख पंथ को लेकर बोले गए आपत्तिजनक शब्दों पर माफी मांगी है। रावत ने पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष सिद्धू और अन्य चार कार्यकारी अध्यक्षों को पांच प्यारे बोल दिया था, जिसे लेकर सिख जगत में काफी नाराजगी थी। रावत के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किये जाने की मांग चल रही है।

रावत ने ट्वीट करते हुए माफी मांगी है और लिखा है कि कभी आप आदर व्यक्त करते हुये, कुछ ऐसे शब्दों का उपयोग कर देते हैं जो आपत्तिजनक होते हैं। मुझसे भी कल अपने माननीय अध्यक्ष व चार कार्यकारी अध्यक्षों के लिए पंज प्यारे शब्द का उपयोग करने की गलती हुई है। मैं देश के इतिहास का विद्यार्थी हूँ और पंज प्यारों के अग्रणी स्थान की किसी और से तुलना नहीं की जा सकती है। मुझसे ये गलती हुई है, मैं लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाने के लिए क्षमा प्रार्थी हूँ। मैं प्रायश्चित स्वरूप अपने राज्य के किसी गुरुद्वारे में कुछ देर झाड़ू लगाकर सफाई करूंगा। मैं सिख धर्म और उसकी महान परंपराओं के प्रति हमेशा समर्पित भाव और आदर भाव रखता रहा हूँ। मैंने चंपावत जिले में स्थित श्री रीठा साहब के मीठे-रीठे, देश के राष्ट्रपति से लेकर न जाने कितने लोगों को प्रसाद स्वरूप पहुंचाने का काम किया है। जब मुख्यमंत्री बना तो श्री नानकमत्ता साहब और रीठा साहब, जहां दोनों स्थानों पर श्री गुरु नानक देव जी पधारे थे, सड़क से जोड़ने का काम किया। हिमालयी सुनामी के दौर में हेमकुंड साहिब यात्रा सुचारू रूप से चल सके, वहां मेरे कार्यकाल में हुए काम को आज भी देखा जा सकता है।