Fri. Jul 30th, 2021

तहावुर राणा के भारत प्रत्यर्पण के पक्ष में अमेरिका


वॉशिंगटन, 20 जुलाई (हि.स.)। बाइडेन प्रशासन ने लॉस एंजेलिस की संघीय अदालत से आग्रह किया है कि वह पाकिस्तान मूल के कनाडाई व्यापारी तहावुर राणा को भारत प्रत्यर्पित कर दे। राणा को भारत की ओर से भगोड़ा घोषित किया गया है। भारत में वह 2008 के मुंबई हमलों से जुड़े कई आपराधिक मामलों का सामना कर रहा है। इन हमलों में छह अमेरिकियों सहित 166 लोग मारे गए थे।

10 जून 2020 को राणा को लॉस एंजेलिस में फिर से गिरफ्तार कर लिया गया था। साल 2008 में मुंबई आतंकवादी हमले में संलिप्तता के कारण राणा भारत में वांटेड है। अगस्त 2018 में राणा की गिरफ्तारी के लिए भारतीय वारंट जारी किया गया था।

भारतीय अधिकारियों का आरोप है कि राणा ने अपने बचपन के दोस्त डेविड कोलमैन हेडली के साथ मिलकर पाकिस्तानी आतंकी समूह लश्कर-ए-तैयबा की मदद की साजिश रची थी। राणा को मालूम था कि हेडली लश्कर ए तैयबा में शामिल है। वह हेडली को उसकी गतिविधियों को अंजाम देने में मदद कर रहा था। वह आतंकवादी संगठन और उसके सहयोगियों का समर्थन कर रहा था। राणा को हेडली की बैठकों के बारे में पता था। इस दौरान क्या चर्चा हो रही थी, यह भी उसे मालूम था और वह हमले की योजना से भी अवगत था।