Sat. Sep 18th, 2021

पाकिस्तान का कबूलनामा- खुद को बताया तालिबान का सबसे बड़ा संरक्षक


पाकिस्तान के गृहमंत्री ने कहा- तालिबान को हमने हर तरह की मदद दी



इस्लामाबाद, 02 सितम्बर (हि.स.)। पाकिस्तान के गृहमंत्री शेख रााशिद खान ने इस बात को स्वीकार किया है कि इस्लामाबाद लंबे समय तक तालिबान का संरक्षक रहा है। उन्होंने कहा कि तालिबान के लिए इमरान खान की सरकार ने बहुत कुछ किया है। हम लोगों ने हर तरह से तालिबान की मदद की।

गृहमंत्री खान ने मीडिया से कहा कि हम तालिबान नेताओं के संरक्षक हैं। हमने लंबे समय तक उनकी देखभाल की है। उन्हें पाकिस्तान में आश्रय, शिक्षा आदि दिया है। हमने उनके लिए सब कुछ किया है।

इससे पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने 28 अगस्त को कहा था कि इस्लामाबाद अफगानिस्तान का समर्थन करने के लिए एक रचनात्मक भूमिका निभाता रहेगा। कुछ ही दिनों में युद्धग्रस्त देश में एक नई सरकार का गठन किया जाएगा। हम उम्मीद करते हैं कि अफगानिस्तान में आने वाले दिनों में आम सहमति की सरकार बनेगी।

इससे पहले; प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के प्रवक्ता अब्दुल समद याकूब ने लाइव टेलीविजन पर स्वीकार किया था कि तालिबान आतंकवादी पाकिस्तान से संचालित होते हैं। उन्होंने एक अन्य कार्यक्रम के दौरान भी खुले तौर पर स्वीकार किया था कि तालिबान के लोग कभी-कभी पाकिस्तान की सीमा पार कर जाते हैं और हमारे वजीरिस्तान इलाके से अपनी गतिविधियां संचालित करते हैं।

इसी बीच भारतीय राजदूत दीपक मित्तल और तालिबान के राजनीतिक मामलों के प्रमुख शेर मोहम्मद अब्बास स्टेनकजई के बीच कतर की राजधानी दोहा में एक बैठक हुई है। बैठक में अफगानिस्तान में फंसे भारतीय नागरिकों की जल्द वापसी के मुद्दे पर चर्चा हुई।