Mon. Aug 2nd, 2021

एलएनजी के कारण परिवहन क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव : गडकरी


नागपुर, 11 जुलाई (हि.स.)। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने रविवार को बैद्यनाथ समूह द्वारा नागपुर के विहिरगांव में आयोजित देश के पहले ईंधन पंप बीएलएनजी का उद्घाटन किया। इस अवसर पर गडकरी ने कहा कि एलएनजी और सीएनजी, जो प्रदूषण मुक्त, पॉकेट-फ्रेंडली और पेट्रोल-डीजल का विकल्प हैं, ईंधन के परिवहन में क्रांति लाएंगे और ईंधन अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देंगे।

केंद्रीय मंत्री ने बताया कि सीएनजी-एलएनजी देश का भविष्य का ईंधन होगा। कई देशों में एलएनजी पर ट्रक, बस, कार सफलतापूर्वक संचालित हो रहे हैं, इसलिए हमें कच्चे तेल के निर्यात पर अंकुश लगाने के लिए वैकल्पिक ईंधन के रूप में एलएनजी का उपयोग करने की भी आवश्यकता है। डीजल और पेट्रोल का आयात देश के सामने एक बड़ी चुनौती है। देश के शहर पेट्रोल और डीजल के कारण अधिक प्रदूषण का सामना कर रहे हैं। हमने एथनाल, मेथनाल, सीएनजी, एलएनजी को स्वदेशी और पॉकेट बायोफ्यूल के रूप में प्रदूषण को कम करने के लिए अधिक प्रोत्साहन दिया है।

बतौर गडकरी देश में मोलिसिस, गन्ने का रस, मक्का, चावल का अत्यधिक उत्पादन होता है। इससे एथनाल बनाने की अनुमति है। जैव ईंधन अर्थव्यवस्था को बड़ा बनाने के लिए, कृषि क्षेत्र को जैव ईंधन उत्पादन में स्थानांतरित करना आवश्यक है। अब तक पेट्रोल में 10 प्रतिशत एथनाल मिलाया जा रहा था। अब, हालांकि सरकार ने 22 प्रतिशत मिश्रण की अनुमति दी है। अमेरिका, कनाडा, ब्राजील में फ्लेक्स इंजन से चलने वाले वाहन हैं। इंजन या तो 100 प्रतिशत पेट्रोल या 100 प्रतिशत एथनाल द्वारा संचालित होता है। केंद्रीय मंत्री ने बताया कि पेट्रोल और डीजल की कीमतों के कारण लोगों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। नतीजतन लोग आंदोलन भी कर रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि जैव ईंधन के उपयोग से इस क्षेत्र की अर्थव्यवस्था में क्रांति आएगी। गडकरी ने कहा कि मौजूदा समय में पांच टन तने से एक टन सीएनजी का उत्पादन होता है। मैंने अपने ट्रैक्टर को बायो सीएनजी में बदल दिया है। इस एलएनजी पंप से बैद्यनाथ के कारोबार में करोड़ों का इजाफा होगा। देश में हाइड्रोजन फ्यूल सेल पर भी काम चल रहा है। ब्रिटेन और चीन में बड़ी संख्या में वाहन एथनाल और एलएनजी पर चलते हैं।

गडकरी ने इस अवसर पर कहा कि ट्रक संचालकों को अपने डीजल इंजनों को एलएनजी और सीएनजी में बदलना चाहिए। साथ ही निर्माण ठेकेदारों से जेसीबी और निर्माण में इस्तेमाल होने वाले अन्य वाहनों को सीएनजी में बदलने की अपील केंद्रीय मंत्री ने की।