Sun. Dec 5th, 2021

हज-2022 के लिए ऑनलाइन आवेदन शुरू, केंद्रीय मंत्री नकवी ने किया ऐलान


मुंबई/नई दिल्ली, 01 नवंबर (हि.स.)। कोविड महामारी के कारण गत दो वर्षों से हज की अदायगी से महरूम रहने वाले मुसलमानों के लिए खुशखबरी है। कोरोना से हालात काबू में आने के बाद जब सऊदी अरब के जरिए पाबंदियों में ढील दी गई तो भारत की तरफ से भी इस साल हज को घोषणा कर दी गई है। केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री एवं राज्यसभा में उपनेता मुख्तार अब्बास नकवी ने मुम्बई में आज हज-2022 की प्रक्रिया का ऐलान किया । इसके साथ ही आज 1 नवम्बर से हज 2022 के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू हो गई है।

हज हाउस में हज-2022 की घोषणा करते हुए नकवी ने कहा कि सम्पूर्ण हज प्रक्रिया शत प्रतिशत डिजिटल/ऑनलाइन होगी। हज-2022 के लिए आवेदन पत्र जमा किए जाने की अंतिम तिथि 31 जनवरी, 2022 रखी गई है। हज के लिए आवेदन, ऑनलाइन और आधुनिक सुविधाओं से युक्त “हज मोबाइल ऐप” के जरिए भी किए जा सकेंगे।

नकवी ने कहा कि इस बार भारतीय हज यात्री भी “वोकल फॉर लोकल“ को प्रोत्साहित करेंगे एवं स्वदेशी सामान के साथ हज यात्री हज यात्रा पर जाएंगे। इससे पूर्व चादर, तकिए, तौलिया, छतरी अन्य सामान, हज यात्री विदेशी मुद्रा में सऊदी अरब में खरीदते थे लेकिन अब इस बार इनमें से अधिकांश स्वदेशी सामान भारतीय मुद्रा में भारत में ही खरीदे जाएंगे। जहां यह सामान भारत में लगभग 50 प्रतिशत कम दामों पर उन्हें मुहैया होंगे, वहीं इससे स्वदेशी एवं “वोकल फॉर लोकल“ को बढ़ावा मिलेगा। यह सभी सामान हज यात्रियों को उनके निर्धारित इम्बार्केशन पॉइंट्स पर दिए जाएंगे।

नकवी ने कहा कि दशकों से हज यात्री ये सभी सामान विदेशी मुद्रा में सऊदी अरब में खरीदते थे। दिलचस्प यह है कि इनमें से अधिकांश सामान “मेड इन इंडिया“ होते थे, जिन्हें विभिन्न कम्पनियां भारत से खरीद कर दोगुने-तिगुने दामों में सऊदी अरब में हज यात्रियों को देती थीं।

नकवी ने कहा कि एक अनुमान के अनुसार इस व्यवस्था से हज यात्रियों की करोड़ों रुपये की बचत होगी। भारत से 2 लाख हज यात्री प्रतिवर्ष हज यात्रा पर जाते हैं। नकवी ने कहा कि हज यात्रा के इच्छुक लोगों की चयन प्रक्रिया कोरोना वैक्सीन के दोनों डोज लिए जाने एवं भारत और सऊदी अरब की सरकारों द्वारा हज-2022 के समय तय किए जाने वाले कोरोना प्रोटोकॉल, दिशानिर्देशों एवं मापदंडों के तहत होगी। साथ ही हज-2022 की संपूर्ण प्रक्रिया को और अधिक सरल-सुलभ एवं पारदर्शी किया गया है।

हज-2022 की संपूर्ण प्रक्रिया, सऊदी अरब की सरकार एवं भारत सरकार द्वारा तय किए जाने वाले पात्रता मानदंड, आयु मानदंड, स्वास्थ्य परिस्थिति एवं अन्य जरूरी दिशानिर्देशों के अनुसार की जा रही हैं। लोगों की सेहत, सुरक्षा को प्राथमिकता देते हुए और अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय, स्वास्थ्य मंत्रालय, विदेश मंत्रालय, नागरिक उड्डयन मंत्रालय, हज कमेटी, सऊदी अरब में भारतीय एम्बेसी, जेद्दा में भारतीय कॉन्सुल जनरल आदि द्वारा गहन मंत्रणा के बाद हज 2022 की संपूर्ण रुपरेखा तय की गई है। “हज मोबाइल ऐप” को अपग्रेड किया गया है। इसकी टैग लाइन “हज ऐप इन योर हैंड“ है। “हज मोबाइल ऐप” में आवेदन पत्र, आवेदन पत्र को भरने की संपूर्ण जानकारी, आवेदन पत्र भरने की प्रक्रिया का वीडियो आदि उपलब्ध हैं।

उन्होंने बताया कि हज-2022 के लिए 21 की जगह 10 इम्बार्केशन पॉइंट्स तय किए गए हैं, जिनमें अहमदाबाद, बेंगलुरु, कोच्चि, दिल्ली, गुवाहाटी, हैदराबाद, कोलकाता, लखनऊ, मुंबई और श्रीनगर शामिल हैं। अहमदाबाद इम्बार्केशन पॉइंट से गुजरात के हज यात्री, बेंगलुरु इम्बार्केशन पॉइंट से कर्नाटक एवं आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले के हज यात्री, कोच्चि इम्बार्केशन पॉइंट से केरल, लक्षद्वीप, पुद्दुचेरी, तमिलनाडु, अंडमान एवं निकोबार के हज यात्री, दिल्ली इम्बार्केशन पॉइंट से दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, चंडीगढ़, उत्तराखंड, पश्चिम उत्तर प्रदेश और राजस्थान के हज यात्री हज यात्रा 2022 पर जा सकेंगे। गुवाहाटी इम्बार्केशन पॉइंट से असम, मेघालय, मणिपुर, नगालैंड, अरुणाचल प्रदेश और सिक्किम के हज यात्री, हैदराबाद इम्बार्केशन पॉइंट से आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के हज यात्री, कोलकाता इम्बार्केशन पॉइंट से पश्चिम बंगाल, ओड़िशा, त्रिपुरा, झारखण्ड और बिहार के हज यात्री हज यात्रा 2022 पर जा सकेंगे। लखनऊ इम्बार्केशन पॉइंट से पश्चिम उत्तर प्रदेश को छोड़ कर समस्त उत्तर प्रदेश के हज यात्री, मुंबई इम्बार्केशन पॉइंट से महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दमन एवं दीव, दादरा एवं नगर हवेली और गोवा के हज यात्री और श्रीनगर इम्बार्केशन पॉइंट से जम्मू, कश्मीर, लेह-लदाख-कारगिल के हज यात्री हज यात्रा 2022 पर जा सकेंगे।

अल्पसंख्यक कार्य मंत्री नकवी ने कहा कि सभी हज यात्रियों को डिजिटल हेल्थ कार्ड, “ई-मसीहा“ स्वास्थ्य सुविधा, मक्का-मदीना में ठहरने की बिल्डिंग/ट्रांसपोर्टेशन की जानकारी भारत में ही देने वाली “ई-लगेज टैगिंग“ की सुविधा भी दी जाएगी। भारत और सऊदी अरब में हज 2022 के लिए हज पर जाने वाले लोगों के लिए कोरोना प्रोटोकॉल और स्वास्थ्य तथा स्वच्छता के सम्बन्ध में विशेष ट्रेनिंग की व्यवस्था की गई है।