Sat. Dec 4th, 2021

महाविकास आघाड़ी सरकार को बदनाम करने की थी ड्रग्स पार्टी के आयोजकों की मंशाः नवाब मलिक


मलिक का दावा- मंत्री असलम शेख को भी ड्रग्स पार्टी में बुलाया गया था



मुंबई, 7 नवंबर (हि.स.)। क्रूज शिप पर हाई-प्रोफाइल ड्रग्स पार्टी मामले में एनसीबी की कार्रवाई पर सवाल उठाने वाले महाराष्ट्र के अल्पसंख्यक कार्य मंत्री नवाब मलिक ने रविवार को एक नया दावा किया है। उन्होंने कहा कि ड्रग्स पार्टी में राज्य के वस्त्र एवं उद्योग मंत्री असलम शेख को भी बुलाया गया था। इसके साथ ही कई मंत्रियों के बेटों को भी पार्टी में आमंत्रित किया गया था। मलिक ने कहा कि पार्टी आयोजकों की मंशा महाविकास आघाड़ी सरकार को बदनाम करने की थी, लेकिन इनमें से किसी व्यक्ति के पार्टी में नहीं जाने से आयोजकों के मंसूबे धरे के धरे रह गए।

मंत्री एवं राकांपा के प्रवक्ता नवाब मलिक ने पत्रकारों से कहा कि क्रूज शिप पर ड्रग्स पार्टी मामले की साजिश रचने वालों पर नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी ) को कठोर कार्रवाई करनी चाहिए। मामले में एनसीबी की निष्पक्ष कार्रवाई के लिए साजिशकर्ताओं से विभाग को सतर्क रहना जरूरी है। उन्होंने कहा कि ड्रग्स विरोधी कार्रवाई में ‘बड़ी मछलियों’ को जेल तक पहुंचाने और छोटी मात्रा में ड्रग सेवन करने वालों को नशा मुक्ति केंद्र तक पहुंचाया जाना जरूरी है।

मलिक ने दावा किया कि ड्रग्स पार्टी की साजिश मुंबई के मशहूर होटल ललित में रची गई थी। इस होटल में सुनील पाटिल के नाम पर लगातार 7 महीने तक रूम बुक था। इस रूम में मोहित कंबोज, प्रतीक गाभा, ऋषभ सचदेवा, सैनियल डिसोजा उर्फ सैम डिसोजा, किरण गोसावी, राजकुमार बजाज, प्रदीप नांबियार जैसे लोगों की आना-जाना लगा रहता था। इस रूम में लड़कियां भी आती थीं और बाकायदा ड्रग्स पार्टी होती थी। यह सभी लोग एनसीबी की मुंबई जोन के डायरेक्टर समीर वानखेड़े की प्राइवेट आर्मी माने जाते हैं। क्रूज शिप पर ड्रग्स पार्टी पर छापेमारी की योजना यहीं बनाई गई थी। इनके जाल में फिल्म अभिनेता शाहरुख खान का बेटा आर्यन खान फंस गया और उसका अपहरण किया गया।

बकौल नवाब मलिक, सैनियल उर्फ सैम डिसोजा को एनसीबी ने व्हिट बेकरी ड्रग्स केस में 5वां आरोपित बनाया था और उसे 23 जून को नोटिस जारी किया था। इसके बाद सैनियल डिसोजा की एनसीबी अधिकारी वीवी सिंह से फोन पर बात हुई थी, लेकिन फरार सैनियल डिसोजा को एनसीबी ने आज तक गिरफ्तार नहीं किया है। मोहित कंबोज 1100 करोड़ रुपये के बैंक घोटाले में आरोपित हैं। उनके घर पर सीबीआई छापेमारी कर चुकी है। इसी वजह से मोहित कंबोज भाजपा में शामिल हुए और समीर वानखेड़े से मिलकर वसूली का धंधा संभाल रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस तरह की कार्रवाई से बड़े और असली ड्रग पेडलरों पर एनसीबी की कार्रवाई नहीं हो पा रही है।

राकांपा प्रवक्ता मलिक ने कहा कि एनसीबी के मुंबई जोन के समीर वानखेड़े, वीवी सिंह, आशीष रंजन, ड्राइवर माने इस रैकेट में शामिल हैं और प्राइवेट आर्मी से हजारों करोड़ रुपये की अवैध वसूली हो चुकी है। मलिक ने एनसीबी के संजय सिंह के नेतृत्व में की जा रही 6 मामलों की जांच पर भी सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि इन मामलों की चार्जशीट पेश की जा चुकी है तो क्या संजय सिंह इसकी थर्ड समरी फाइल करने वाले हैं। अथवा संजय सिंह सिर्फ धमकी देने के लिए इन मामलों की फिर से जांच करेंगे। जब उन्होंने ड्रग्स पार्टी केस को झूठा बताने के लिए पहली पत्रकार वार्ता की थी, उसके बाद फिल्म अभिनेता शाहरुख खान को धमकी दी गई कि नवाब मलिक को मना करो नहीं तो उनके बेटे की जमानत नहीं होने दी जाएगी।

मंत्री मलिक ने कहा कि अब इस मामले की दोबारा जांच के नाम पर उन्हें धमकाने का काम किया जा रहा है। उनके दामाद के पास ड्रग्स की जांच रिपोर्ट देने वाली गुजरात की प्रयोगशाला को नोटिस जारी की गई है और उसकी दोबारा जांच करवाई जा रही है। इसके बावजूद वे इस रैकेट के विरोध में आवाज उठाते रहेंगे। ड्रग्स पार्टी में 18 करोड़ की लेन-देन के आरोपों को रफा-दफा करने के लिए समीर वानखेड़े सहित उनकी प्राइवेट आर्मी फोन पर आरोपित बनाए जाने की धमकी दे रही है। मलिक ने कहा कि एनसीबी को साफ सुथरा करने के लिए इस मामले के पीड़ितों को सामने आना चाहिए।