Tue. Oct 26th, 2021

बिहार :प्रबंधन ने बताया रिफाइनरी दुर्घटना में 19 घायल


बेगूसराय, 16 सितंबर (हि.स.)। बिहार में बेगूसराय जिले के इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन के बरौनी रिफाइनरी में गुरुवार को हुए हादसा के बाद प्रबंधन ने सभी लोगों को सुरक्षित बताया है। लेकिन काम करने वाले श्रमिकों के परिजन में घटना की सही जानकारी लेने को लेकर काफी आक्रोश है तथा रिफाइनरी गेट पर जुटे हजारों लोग किसी की भी बात सुनने के लिए तैयार नहीं हैं।

रिफाइनरी प्रबंधन, जिला प्रशासन, सीआईएसएफ, कई थाना की पुलिस और तमाम राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि मौके पर जुटे हुए हैं। लोगों का कहना है कि सही जानकारी नहीं दी जा रही है। घटना में कई लोगों की मौत हुई है। जबकि रिफाइनरी प्रबंधन का कहना है पांच रिफाइनरी कर्मी और 14 ठेका श्रमिक घायल हुए हैं। सभी घायलों का इलाज कराया जा रहा है। किसी की मौत नहीं हुई है।

इधर हादसा की सूचना मिलते ही राज्यसभा सदस्य प्रो. राकेश सिन्हा ने दुर्घटना से घायल सभी कर्मियों के शीघ्र स्वस्थ होने की ईश्वर से प्रार्थना की है। उन्होंने स्थानीय प्रशासन से सभी मेडिकल सुविधा के साथ उपयुक्त राहत दिलाने का अनुरोध किया है। भाजपा जिलाध्यक्ष राज किशोर सिंह ने दुर्घटना स्थल का जायजा लिया तथा घायलों से जानकारी लेने के बाद केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जयसवाल को अवगत कराया है।जदयू के प्रदेश महासचिव भूमिपाल राय, पूर्व विधायक बोगो सिंह, विधायक राजकुमार सिंह आदि ने भी घटनास्थल का निरीक्षण कर लोगों को समझाने-बुझाने का प्रयास किया है।

रिफाइनरी की कॉर्पोरेट संचार प्रबंधक अंकिता श्रीवास्तव ने बताया कि रिफाइनरी में हुई घटना में सभी सुरक्षित हैं। सुबह 10.30 बजे एवीयू-1 यूनिट के लाइटअप के दौरान एवीयू-1 यूनिट का फर्नेस फट जाने की घटना हुई, जिसके दबाव की वजह से वहां काम कर रहे लोगों को चोटें आयी हैं। फर्नेस फटने की घटना से कोई भी आग नहीं लगी है और ना ही किसी की मृत्यु हुई है तथा घायल हुए लोग पूरी तरह से सुरक्षित हैं। इस घटना की तकनीकी जांच की जा रही है और इससे रिफाइनरी के परिचालन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा है। किसी के लिए भी घबराने का कोई कारण नहीं है क्योंकि रिफाइनरी के अंदर और बाहर सभी लोग पूरी तरह से सुरक्षित हैं।जिला प्रशासन से एसडीएम और डीएसपी ने घटना स्थल का दौरा किया और स्थिति को पूरी तरह से नियंत्रित बताया।

अंकिता श्रीवास्तव ने बताया कि रिफाइनरी में 20 अगस्त से योजनाबद्ध शट्डाउन का कार्य चल रहा है। इसी क्रम में यूनिट के लाइटअप का काम इन दिनों किया जा रहा है। घटना के तुरंत बाद रिफाइनरी की आपातकालीन आपदा रिस्पोंस प्रबंधन प्रणाली तुरंत सक्रिय हुई और त्वरित कार्रवाई करते हुए 19 घायल लोगों को प्राथमिक चिकित्सा उपलब्ध कराई गई तथा रिफाइनरी अस्पताल और ग्लोकल अस्पताल में उचित चिकित्सा उपचार के लिए भर्ती किया गया हैं और सभी की हालत स्थिर है। घायल हुए लोगों में पांच रिफाइनरी कर्मी एसके सिन्हा, सत्य प्रकाश, रंजन कुमार, जमील अहमद और एके मिश्रा का इलाज रिफाइनरी अस्पताल में चल रहा है। 14 ठेका श्रमिक घायल हुए हैं, जिसमें मेसर्स एनएसीपीएल के मो. शाद आलम, लक्ष्मण कुमार, सौरभ कुमार, भूधो तांती, नीलेश भारद्वाज, नीतीश कुमार और सौरव कुमार तथा बीआरकेएस के अवधेश ठाकुर ग्लोकल हॉस्पिटल सिंघौल में भर्ती हैं। जबकि मेसर्स बीआरकेएस के गोपाल सिंह, बब्बन सिंह, गाजो तांती राजेश कुमार और भावेश कुमार तथा मेसर्स छोटेलाल सिंह के अभिषेक कुमार रिफाइनरी अस्पताल में भर्ती हैं।