Tue. Sep 21st, 2021

आज जुम्मा है, भवानीपुर से नामांकन करेंगी ममता बनर्जी


कोलकाता, 10 सितंबर (हि.स.)। पूर्व घोषणा के मुताबिक पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आज जुम्मे के दिन भवानीपुर विधानसभा क्षेत्र से उपचुनाव के लिए नामांकन दाखिल करेंगी। इसके पहले विधानसभा चुनाव के दौरान नंदीग्राम जहां से वह चुनाव हार गई थीं, वहां भी उन्होंने जुम्मे के दिन ही नामांकन दाखिल किया था। अब भवानीपुर में 30 सितंबर को मतदान होना है। मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बने रहने के लिए छह महीने के अंदर चुनाव जीतना जरूरी है। सभी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए ममता बनर्जी इस बार भी जुम्मे के दिन शुक्रवार को नामांकन दाखिल करने जा रही हैं। साल 2011 और 2016 में भी वह भवानीपुर विधानसभा सीट से ही जीत दर्ज करती रही हैं। वे हर बार जुम्मे के दिन ही नामांकन दाखिल करती हैं। तृणमूल कांग्रेस की ओर से जारी बयान में बताया गया है कि दोपहर 12:30 बजे के करीब वह अपना नामांकन दाखिल करने जाएंगी।

दो मई को पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के नतीजों में ममता बनर्जी को नंदीग्राम सीट से हार का मुंह देखना पड़ा था। इसके बावजूद ममता बनर्जी ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। ममता बनर्जी फिलहाल विधानसभा की सदस्य नहीं हैं। ऐसे में मुख्यमंत्री बनने के छह माह के भीतर उनके लिए सदस्यता प्राप्त करना अनिवार्य है। वहीं भवानीपुर के विधायक रहे शोभन देव चट्टोपाध्याय अब खरदह विधानसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे। हालांकि चुनाव आयोग ने फिलहाल यहां चुनाव की घोषणा नहीं की है। उन्होंने ममता के चुनाव लड़ने के लिए भवानीपुर सीट से इस्तीफा दे दिया था। भवानीपुर से ममता बनर्जी दो बार पहले भी जीत चुकी हैं। भवानीपुर के अलावा 30 सितंबर को शमशेरगंज और जंगीपुर विधानसभा सीट पर भी वोटिंग होगी। मतगणना तीन अक्टूबर को होगी।

उपचुनाव के लिए चुनाव आयोग ने नामांकन से पहले और बाद के जुलूस पर प्रतिबंध लगाए हैं। प्रचार के लिए बाहरी स्थानों पर 50 फीसदी लोगों की मौजूदगी हो सकेगी। राष्ट्रीय और राज्य स्तरीय मान्यता प्राप्त दलों के लिए अधिकतम 20 स्टार प्रचारक होंगे और मतदान खत्म होने से पहले 72 घंटे के दौरान प्रचार पर पाबंदी रहेगी। जहां उपचुनाव होने हैं, उन राज्यों से मिली सूचना के आधार पर निर्वाचन आयोग ने कहा कि उसने कोरोना की स्थिति, बाढ़ एवं आगामी त्योहारों के मद्देनजर देश भर में अन्य 31 विधानसभा क्षेत्रों और तीन संसदीय क्षेत्रों में उपचुनाव नहीं कराने का फैसला किया है।