Sun. Oct 17th, 2021

आईटीबीपी ने पूर्वी लद्दाख की दो चोटियों को किया फतह


फतह की गई चोटियों में से एक को दिया अपने पूर्व पर्वतारोही ”नुर्बू वांगदुस” का नाम

 कमांडेंट डीएस नेगी के नेतृत्व में 28 सितंबर को लॉन्च किया गया था पर्वतारोहण अभियान ‘शिखर”



नई दिल्ली, 09 अक्टूबर (हि.स.)। भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) ने पूर्वी लद्दाख में दो चोटियों को फतह किया है। आईटीबीपी ने इसमें से एक पर्वत को अपने पूर्व पर्वतारोही का नाम ”नुर्बू वांगदुस पीक’ दिया है।

प्रवक्ता के अनुसार मणिपुर कैडर के आईपीएस अधिकारी आईटीबीपी नॉर्थ-वेस्ट फ्रंटियर के आईजी लहारी दोरजी ल्हाटू ने पर्वतारोहण अभियान ”शिखर” के तहत लद्दाख पुलिस के सदस्यों के साथ 6 अक्टूबर 2021 को पूर्वी लद्दाख में 6250 मीटर और 6099 मीटर की ऊंचाई वाली दो चोटियों पर सफलतापूर्वक चढ़ाई की है।

पर्वतारोहण अभियान ‘शिखर” को आईटीबीपी की 4 महिला पर्वतारोहियों और लद्दाख पुलिस के 2 कर्मियों सहित 20 पर्वतारोहियों की एक टीम के साथ आईटीबीपी के कमांडेंट डीएस नेगी के नेतृत्व में 28 सितंबर 2021 को लेह से लॉन्च किया गया था। यह अभियान बल के स्वर्गीय हेड कांस्टेबल और पर्वतारोही लद्दाख निवासी नुर्बू वांगदुस को समर्पित था, जिनकी अक्टूबर 2019 में उत्तराखंड में माउंट गंगोत्री-1 पर आरोहण के दौरान हिमस्खलन की चपेट में आने से मृत्यु हो गई थी।

आईटीबीपी के पर्वतारोहियों ने फतह की गई दो चोटियों में से 6250 मीटर की ऊंचाई वाले पर्वत को अपने पूर्व पर्वतारोही ”नुर्बू वांगदुस” का नाम दिया है। भारत-चीन युद्ध के दौरान 1962 में गठित आईटीबीपी ने अब तक 223 से अधिक सफल पर्वतारोहण अभियान दर्ज किए हैं, जो एक अनूठा रिकॉर्ड है।