Sun. Jan 23rd, 2022

श्री करतारपुर साहिब कॉरिडोर बुधवार से खुलेगा, सिख तीर्थयात्रियों को मिलेगा लाभ


नई दिल्ली, 16 नवम्बर (हि.स.)। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कोविड -19 की बेहतर स्थिति को ध्यान में रखते हुए श्री करतारपुर साहिब कॉरिडोर को बुधवार (17 नवंबर) से फिर से खोलने का निर्णय लिया है। कोविड -19 महामारी के कारण 16 मार्च 2020 से इस कॉरिडोर को बंद कर दिया गया था।

गृह मंत्री शाह ने मंगलवार को ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि श्री करतारपुर साहिब करोड़ों देशवासियों की असीम श्रद्धा का केंद्र है और इस कॉरिडोर का फिर से संचालन शुरू करने का निर्णय सिख समुदाय के प्रति मोदी सरकार की संवेदनशीलता को दर्शाता है। मोदी सरकार के इस निर्णय से बड़ी संख्या में सिख तीर्थयात्रियों को लाभ मिलेगा।

गृह मंत्रालय के अनुसार शाह ने कॉरिडोर का पुनः संचालन शुरू करने के काम में गति लाने के लिए अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठकें की थी। श्री करतारपुर साहिब कॉरिडोर से तीर्थयात्रा की सुविधा मौजूदा प्रक्रियाओं और कोविड प्रोटोकॉल के पालन के अनुसार ही प्रदान की जाएगी।

उल्लेखनीय है कि भारत ने जीरो प्वाइंट, इंटरनेशनल बाउंड्री पर डेरा बाबा नानक में श्री करतारपुर साहिब कॉरिडोर के संचालन के तौर-तरीकों पर पाकिस्तान के साथ 24 अक्तूबर 2019 को एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। इस दौरान विदेश मंत्रालय, रक्षा मंत्रालय और गृह मंत्रालय के प्रतिनिधियों के साथ पंजाब सरकार के प्रतिनिधि भी उपस्थित थे।

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 22 नवंबर 2018 को श्री गुरु नानक देवजी की 550 वीं जयंती के ऐतिहासिक अवसर को पूरे देश और दुनिया भर में भव्य तरीके से मनाने का एक प्रस्ताव पारित किया था।

इस ऐतिहासिक फैसले में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने अंतरराष्ट्रीय सीमा तक डेरा बाबा नानक से श्री करतारपुर साहिब कॉरिडोर के निर्माण और विकास को मंजूरी दी थी ताकि भारत के तीर्थयात्रियों को गुरुद्वारा दरबार साहिब करतारपुर की यात्रा करने में सुविधा हो और यह यात्रा वर्षभर सुचारू और सुगम तरीके से चल सके।

श्री करतारपुर साहिब कॉरिडोर को खोलने के फैसले पर पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह समेत तमाम नेताओं और सिख समुदाय के प्रमुखों ने केंद्र सरकार का आभार जताया है।