Mon. Aug 2nd, 2021

गुरुग्राम: ख्वासपुर गांव में मलबे में दबे मिले तीन शव


बिजली गिरने से ढही थी तीन मंजिला इमारत

करीब 18 घंटे चले राहत कार्य



गुरुग्राम, 19 जुलाई (हि.स.)। जिले के खंड फर्रूखनगर के गांव ख्वासपुर में रविवार को भारी बरसात व बिजली गिरने से गिरी तीन मंजिला इमारत के मलबे में से सोमवार को बरसात के बीच दिनभर कड़ी मशक्कत के बाद तीन लोगों के शव निकाले गए, वहीं रात को निकाले गए एक घायल हुए उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बचाव दल ने पूरी इमारत का रेस्क्यू का काम पूरा कर लिया है।

बता दें कि रविवार को गांव ख्वासपुर में एक वेयर हाउस परिसर में तीन मंजिला इमारत ढह गई थी। सूत्रों के मुताबिक इस तीन मंजिला बिल्डिंग में डीलक्स कंपनी में काम करने वाले श्रमिकों के रहने के लिए कमरे दिए गए थे। थाना फर्रूखनगर में डीलक्स कंपनी में चार साल से कार्यरत और बीते एक साल से ख्वासपुर वेयर हउस साइट पर कार्यरत विजय कुमार के बयान पर ही पुलिस ने इमारत के मालिक रविंद्र कटारिया व मैनेजर कृष्ण कौशिक के खिलाफ केस दर्ज किया है। रविंद्र कटारिया गुरुग्राम नगर परिषद के पूर्व चेयरमैन बताए जा रहे हैं। विजय कुमार पुत्र राजेश कुमार निवासी गांव आसलवास जिला भिवानी ने बताया कि वह स्वयं, अजय मिश्रा और कुछ अन्य कर्मचारी तीन मंजिला इमारत में मौजूद थे। इसी दौरान उन्हें कुछ चटकने जैसी आवाज आई। डर के चलते वे इमारत से बाहर निकल गए। जैसे ही वे दोनों बाहर निकले तो तीन मंजिला इमारत सेकेंड भर में ही ढह गई। इस दौरान इमारत में मौजूद अन्य कर्मचारी मलबे में दब गये।

मौके पर पहुंचे पटौदी के विधायक सत्यप्रकाश जरावता ने कहा कि प्रशासन अपना काम मुस्तैदी से किया है। उन्होंने कहा कि घटना के दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। घटनास्थल पर पहुंचे गुरुग्राम के डीसी डॉ. यश गर्ग ने बताया कि पूरी सावधानी के साथ पूरा रेस्क्यू अभियान चलाया गया। प्राथमिकता सभी को जिवित निकालने की थी। उन्होंने कहा कि हादसे की गहन जांच कराई जाएगी। जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।