Sat. Sep 18th, 2021

जीआरएसई का फ्रांस की कंपनी नेवल ग्रुप से हुआ करार


दोनों कम्पनियां युद्धपोतों के निर्माण में भारतीय उद्योगों के साथ मिलकर काम करेंगी

 अंतरराष्ट्रीय नौसेनाओं के लिए भी फायदेमंद साबित होगा दोनों कंपनियों का एमओयू



नई दिल्ली, 10 सितम्बर (हि.स.)। ‘मेक इन इंडिया’ से ‘मेक फ्रॉम इंडिया’ की ओर बढ़ रहे क्रांतिकारी कदम में गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स लिमिटेड (जीआरएसई) ने यूरोपीय नौसेना रक्षा में अग्रणी फ्रांस की कंपनी नेवल ग्रुप के साथ एक एमओयू किया है। यह समझौता होने के बाद भारतीय और विदेशी नौसैनिक बलों के लिए 100 से अधिक युद्धपोतों का निर्माण करने के बाद जीआरएसई फ्रांसीसी और भारतीय उद्योगों के साथ मिलकर काम करेगा।

समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर होने के बाद दोनों कंपनियां जहाज निर्माण उद्योग की बढ़ती आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए एक-दूसरे की क्षमताओं का लाभ उठाएंगी और अत्याधुनिक क्षमताओं का उपयोग करते हुए विश्व स्तरीय उत्पाद पेश करेंगी। भारतीय और फ्रांसीसी कंपनी के बीच हुआ समझौता आधुनिक प्रौद्योगिकी नवाचार और संसाधनों के मामले में अंतरराष्ट्रीय नौसेनाओं के लिए भी फायदेमंद साबित होगा। जीआरएसई के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक (सीएमडी) वीके सक्सेना ने कहा कि फ्रांस के नौसेना समूह के साथ हमारे सहयोग का उद्देश्य इंडो पैसिफिक क्षेत्र में निर्यात बाजार को पूंजीकृत करने में एक नया बेंचमार्क स्थापित करना है।

उन्होंने कहा कि नौसेना समूह से साझेदारी डिजाइन और प्रौद्योगिकी सहायता का उपयोग करके सतही जहाज निर्माण के लिए एक नया आधार स्थापित करेगी। यह न केवल दोनों देशों के लिए पारस्परिक लाभ लाएगा बल्कि जीआरएसई को हमारे प्रधानमंत्री के सागर के दृष्टिकोण के अनुरूप मित्र देशों को सतह के जहाजों को वितरित करने में सक्षम करेगा।