Sat. Aug 8th, 2020

पहली से 8वीं के बच्चों को तीन माह का राशन और रुपये देगी सरकार


पहली  से 5वीं तक के बच्चों को मिलेंगे 8 किलो राशन और 358 रुपये6 से 8वीं तक के बच्चों को दिये जाएंगे 12 किलो राशन और 536 रुपये



पटना, 06 जुलाई, (हि.स.)। कोरोना संकट को लेकर बिहार में सभी शिक्षण संस्थान बंद हैं। ऐसी स्थिति में बिहार सरकार ने सोमवार को बड़ा निर्णय लेते हुए कक्षा 1 से 8वीं तक के बच्चों को राशन और रुपये देने का निर्णय किया है। इसे लेकर शिक्षा विभाग ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों को मध्याह्न भोजन योजना के तहत 1 से 5वीं तक के बच्चों को 8 किलो राशन और 358 रुपये तथा कक्षा 6 से 8वीं तक के बच्चों को 12 किलो राशन और 536 रुपये देने का निर्देश दिया है। इसके तहत सभी छात्रों को मई, जून और जुलाई महीने के राशन और रुपये दिए जाएंगे।

उल्लेखनीय है कि मिड डे मील योजना के लिए केंद्र सरकार ने  2,500 करोड़ रुपये का अनुदान जारी कर दिया था। अनुदान जारी करते हुए केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि लॉकडाउन की स्थिति में बच्चों को पर्याप्त और पौष्टिक भोजन की प्राप्ति के लिए मिड डे मील योजना के अंतर्गत राशन उपलब्ध कराये जा रहे हैं जिसमें स्कूलों में ग्रीष्मकालीन छुट्टियों के दौरान मध्याह्न भोजन उपलब्ध कराने के लिए मंजूरी प्रदान की गयी। इस पर लगभग 1600 करोड़ रुपये अतिरिक्त खर्च किये जाएंगे। मिड डे मील योजना के अंतर्गत खाना पकाने की लागत (दाल, सब्जी, तेल, मसाला और ईंधन के लिए) में वार्षिक केंद्रीय आवंटन को 7,300 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 8,100 करोड़ रुपये (10.99 प्रतिशत की वृद्धि) कर दिये गये हैं।