Mon. Nov 29th, 2021

गोवा में आयोजित होने वाले 52वें आईएफएफआई में अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता के लिए 15 फिल्मों का चयन


नई दिल्ली, 12 नवंबर (हि.स.)। भारत के 52वें अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) में प्रतियोगिता के लिए देश से तीन फिल्मों सहित 15 फिल्मों की सूची जारी की गई है। इस खंड में प्रतिस्पर्धा करने के लिए दुनिया भर से फीचर श्रेणी की सर्वश्रेष्ठ फिक्शन फिल्मों का चयन किया जाता है। इन 15 फिल्मों के बीच गोल्डन पीकॉक और अन्य पुरस्कारों के लिए प्रतिस्पर्धा होती है।

इन फिल्मों में एनी डे नाओ( फिनलैंड), शेर्लोट ( पैराग्वे), गोदावरी (भारत), एंट्रेगलडे (रोमानिया), लैंड ऑफ ड्रीम्स ( न्यू मैक्सिको), लीडर ( पोलैंड), मी वसंतराव ( मराठी, भारत), मॉस्को डज़ नॉट हैपन ( रूस), नो ग्राउंड बिनीथ द फीट ( बांग्लादेश), वंस वी वर गुड फॉर यू ( क्रोएशिया), रिंग वांडरिंग ( जापान), सेविंग वन हू वाज़ डैड ( चेक गणराज्य), सेमखोर( दीमासा, भारत), द डोर्म ( रूस), द फर्स्ट फॉलन (ब्राजील) शामिल हैं।

इन पुरस्कारों में सर्वश्रेष्ठ फिल्म (गोल्डन पीकॉक) के अंतर्गत 40,00,000 रुपये का नकद पुरस्कार दिया जाता है और निर्देशक तथा निर्माता के बीच समान रूप से साझा किया जाता है। निर्देशक को नकद राशि के अलावा गोल्डन पीकॉक और एक प्रमाण पत्र प्राप्त होगा। निर्माता को नकद राशि के अलावा एक प्रमाण पत्र प्रदान किया जाएगा।

वहीं, सर्वश्रेष्ठ निर्देशक को सिल्वर पीकॉक, प्रमाण पत्र और 15,00,000 रुपए का नकद पुरस्कार प्रदान किया जाता है। सर्वश्रेष्ठ अभिनेता को सिल्वर पीकॉक, प्रमाण पत्र और 10,00,000 रुपये का नकद पुरस्कार मिलता है। सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री को सिल्वर पीकॉक, प्रमाण पत्र और 10,00,000 रुपये का नकद पुरस्कार दिया जाता है।

इसके अलावा विशेष जूरी पुरस्कार के तहत सिल्वर पीकॉक, प्रमाण पत्र और 15,00,000 रुपये का नकद पुरस्कार एक फिल्म या एक व्यक्ति जिसने एक फिल्म में कलात्मक योगदान दिया हो, के लिए दिया जाता है। पुरस्कार, यदि किसी फिल्म को दिया जाता है, तो फिल्म के निर्देशक को दिया जाएगा।