Sun. Sep 20th, 2020

गया में नक्सलियों ने दो ग्रामीणों की गोली मारकर हत्या की


गया, 29 अगस्त (हि.स.)। नक्सल प्रभावित मैगरा थाना क्षेत्र अंतर्गत हरनी गांव में शुक्रवार की देर रात प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा (माओवादी) के हथियार बंद दस्ते के नक्सलियों की गोलीबारी में दो ग्रामीण मारे गए। एक अन्य ग्रामीण दुलारचंद साव गोली लगने से गंभीर रूप से घायल हैं।
स्थानीय ग्रामीणों के अनुसार नक्सलियों द्वारा पूर्व में प्रतिबंधित की गई भूमि पर महेंद्र यादव और उसके परिजन खेती कर रहे थे। साथ ही गांव में महेंद्र यादव सामाजिक कार्यों में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते थे। महेंद्र यादव की पत्नी ने पंचायत चुनाव में भी भाग लिया था। इसी वजह से महेंद्र यादव नक्सलियों के आंखों की किरकिरी बने हुए थे। शुक्रवार की रात महेंद्र यादव अपने घर पर रामदयाल रजक और दुलारचंद साव के साथ बैठे थे। तभी पांच की संख्या में नक्सलियों ने गोलीबारी कर महेंद्र यादव और रामदयाल रजक की हत्या कर दी। दुलारचंद साव गंभीर रूप से घायल हो गए।
एसएसपी राजीव मिश्रा ने बताया कि नक्सली जोनल कमांडर नीतेश ने अपने साथी नक्सलियों के साथ मिलकर इस घटना को अंजाम दिया है। नक्सलियों के टारगेट पर महेंद्र यादव थे लेकिन साथ में रहे रामदयाल रजक नक्सलियों की गोली से मारे गए जबकि दुलारचंद साव नक्सलियों की गोली से घायल हो गए। चिकित्सकों ने दुलारचंद साव का प्राथमिक इलाज इमामगंज में करने के बाद गया के जयप्रकाश नारायण अस्पताल रेफर कर दिया है। नक्सलियों ने घटनास्थल पर छोड़े पर्चे में मारे गए ग्रामीणों और घायल को पुलिस दलाल, मुखबिर और भू माफिया बताया है। पुलिस ने महेंद्र यादव और रामदयाल रजक का शव पोस्टमार्टम के लिए गया भेजा है। इलाके में नक्सली घटना के बाद ग्रामीणों में दहशत व्याप्त है। पुलिस ने इलाके में अर्द्ध सैनिक बल के साथ नक्सलियों के खिलाफ सघन अभियान शुरू किया है।