Mon. Nov 29th, 2021

छत्तीसगढ़ के चार किसानों को मिला पादप जीनोम सेवियर पुरस्कार


रायपुर, 19 नवंबर (हि.स.)। नई दिल्ली के पूसा परिसर में शुक्रवार को केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने छत्तीसगढ़ राज्य के चार प्रगतिशील कृषकों को पादप जीनोम सेवियर पुरस्कार से सम्मानित किया। प्रदेश के कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे एवं इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एस.एस. सेंगर ने पुरस्कृत कृषकों को शुभकामनाएं दी।

बीजापुर, जांजगीर-चांपा एवं बालोद के प्रगतिशील कृषकों लिंगुराम ठाकुर, दीनदयाल यादव, हेतराम देवांगन एवं संजय प्रकाश चौधरी को डेढ़ लाख रुपये की राशि एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया गया। यह सम्मान कृषकों को देशी एवं परम्परागत किस्मों के संरक्षण, संवंर्धन एवं उन किस्मों के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए प्रदान किया जाता है। सम्मान समारोह में कृषि महाविद्यालय, रायपुर के आनुवांशिकी एवं पादप प्रजनन विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. दीपक शर्मा भी उपस्थित थे।

पौधा किस्म एवं कृषक अधिकार संरक्षण प्राधिकरण द्वारा छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले के प्रगतिशील कृषक लिंगुराम ठाकुर को सम्मानित किया गया है। पादप जीनोम सेवियर पुरस्कार 2021 के तहत जांजगीर चांपा के कृषक दीनदयाल यादव को छत्तीसगढ़ की 36 भाजियों के संरक्षण, हेतराम देवांगन को सांइ करेला, सांइ लौकी, बालोद के कृषक संजय प्रकाश चौधरी को अरकार दुबराज के संरक्षण हेतु सम्मानित किया गया है। चौधरी पंचगव्य से धान की 11 पारम्परिक किस्मों की जैविक खेती करते हैं, जिससे इन किस्मों में चावल अत्यधिक सुगंध एवं स्वाद में उत्तम पाया गया है।

उल्लेखनीय है कि अब तक छत्तीसगढ़ राज्य को 2 कृषक समुदाय पुरस्कार, चार कृषक सम्मान पुरस्कार एवं 13 कृषक पुरस्कार छत्तीसगढ़ राज्य के विभिन्न जिलों के कृषकाें को प्राप्त हो चुके हैं।