Sun. Jan 23rd, 2022

छठ का पहला अर्घ्य संपन्न, खाली पांव पैदल डाला लेकर घाट पहुंचे राकेश सिन्हा


बेगूसराय, 10 नवंबर (हि.स.)। महापर्व छठ को लेकर हर ओर आस्था और विश्वास का जनसैलाब उमड़ पड़ा है। बुधवार को व्रतियों ने अस्ताचलगामी (डूबते हुए सूर्यदेव) की पूजा अर्चना की। मौके पर गंगा एवं बूढ़ी गंडक सहित तमाम नदी किनारे दोपहर से ही लोगों की भीड़ जुटने लगी थी। इसके बाद सूर्यास्त की बेला होते ही लोगों ने सपरिवार सूर्यदेव को अर्घ्य दिया। अर्घ्य के दौरान इस ग्लोबल युग में भी सबसे अधिक एकरूपता यह दिखा कि अमीर -गरीब, ऊंचे-नीचे सभी वर्गों के लोग खाली पांव पैदल सर पर बांस का डाला उठाए हुए नंगे पांव घाट की ओर जाते दिखे। राष्ट्रवादी विचारक राज्यसभा सदस्य प्रो. राकेश सिन्हा ने इस मौके पर बेगूसराय जिला के मनसेरपुर स्थित पैतृक आवास पर पूजा-अर्चना की।

राकेश सिन्हा अपने पूजा घर से डाला लेकर पैदल ही घाट पर पहुंचे और वहां गांव के अन्य लोगों के साथ पूजा अर्चना तथा सूर्य देव को पहला अर्घ्य समर्पित किया। वहीं सभी अधिकारियों ने ऑफिसर्स कॉलोनी स्थित छठ घाट पर डूबते हुए सूर्य की आराधना किया। छठ को लेकर शहर के भीड़भाड़ वाले पोखर और विभिन्न नदी किनारे गोताखोर की व्यवस्था किया गया था। प्रशासनिक स्तर पर विभिन्न जगहों पर मजिस्ट्रेट तैनात किए गए थे। लेकिन ग्रामीण क्षेत्र में प्रतिनियुक्त किए गए अधिकारी और पुलिस बल गायब रहे। लेकिन नदी किनारे एवं शहर के पोखर में प्रशासन तत्पर रही जिसके कारण किसी भी प्रकार के हादसे की सूचना नहीं है। इस दौरान बड़ी पोखर समेत विभिन्न छठ घाटों पर कोरोना टीकाकरण एवं जांच की व्यवस्था की गई थी। इधर, छठ के मौके पर विभिन्न जगहों पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन भी किए जा रहे हैं। अधिकतर ग्रामीण क्षेत्र में युवाओं द्वारा नाटक का आयोजन किया गया है।