Sat. Jul 31st, 2021

ब्लॉक प्रमुख चुनाव: उप्र. में मतदान के दौरान कई जिलों में चलीं गोलियां, पथराव और बवाल


 तीन बजे के बाद से शुरू हुई मतगणना की प्रक्रिया, देर शाम तक आएंगे नतीजे



लखनऊ, 10 जुलाई (हि.स.)। उत्तर प्रदेश में अब तक 334 ब्लॉक प्रमुख निर्विरोध चुने जाने के बाद शनिवार को 476 सीटों पर मतदान हुआ है। इस दौरान प्रदेश में कई जिलों में नोंकझोंक, विवाद, नारेबाजी और फायरिंग की घटनाएं हुई हैं। हालांकि पुलिस बल ने ब्लॉकों में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था बनाये रखी लेकिन मतदान के पहले से हो रही हिंसा की घटनाओं को नहीं रोका जा सका है। हालांकि प्रदेश के एडीजी (कानून एवं व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने कहा कि कुछ जिलों को छोड़कर सभी जनपदों में शांतिपूर्ण तरीके से मतदान हुआ है।

उत्तर प्रदेश में 825 ब्लॉक प्रमुख पदों के लिए होने वाले चुनाव में 349 का निर्विरोध निर्वाचन हो चुका है। आज 11 से तीन बजे तक क्षेत्र पंचायत सदस्य 476 पदों के लिए मतदान हुआ। तीन बजे के बाद से मतगणना की प्रक्रिया प्रारंभ शुरू हो गयी है, जो शाम पांच बजे तक चलेगी। गोंडा के मुजेहना ब्लॉक को छोड़कर अन्य 476 ब्लॉक पर 75845 बीडीसी ने मतदान किया है। इस दौरान कई जिलों में छिटपुट घटनाएं भी सामने आयी हैं।

कानपुर देहात में दो उम्मीदवारों के समर्थकों में चली गोली

सरवनखेड़ा ब्लॉक में उर्वशी चंदेल व भाजपा विधायक महेश त्रिवेदी की भाभी निर्दलीय प्रत्याशी उपमा त्रिवेदी आमने सामने हैं। मतदान के समय दोपहर में उर्वशी पक्ष के लोगों ने उपमा के समर्थकों पर मतदान केंद्र तक जाने के दौरान धमकाने व रूकावट का आरोप लगाया। निर्दलीय उम्मीदवारों के समर्थकों के बीच कई राउंड फायरिंग के बाद वाहनों में तोड़फोड़ की गई। बवाल की सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने सभी को लाठी लेकर दौड़ाया तो सब भाग खड़े हुए। जिलाधिकारी जेपी सिंह व एसपी केशव कुमार चौधरी भी पहुंचे और स्थिति को नियंत्रित किया। पुलिस अब लोगों को चिन्हित करने में जुटी हुई है।

प्रतापगढ़ में पुलिस ने की हवाई फायरिंग

आसपुर देवसरा ब्लॉक में चल रहे मतदान के दौरान लगभग एक बजे पुलिस ने एक पक्ष से जुटी भीड़ को तितर-बितर करने के लिए दौड़ाया तो लोग ईट पत्थर चलाने लगे। पुलिस ने जवाब देने के लिए हवा में गोलियां चलाई। इससे सनसनी फैल गई।एडीएम शत्रुघ्न वैश्य के साथ पुलिस व पीएसी के जवान मौके पर हैं। इसके बाद मतदान शुरु कराया गया है।

अमरोहा में मारपीट, पथराव और फायरिंग

अमरोहा जनपद में शनिवार को पांच ब्लॉकों में ब्लॉक प्रमुख पद के लिए मतदान शुरू हुआ। जोया ब्लॉक प्रमुख चुनाव में प्रशासन ने जोया चौराहे से भाजपा के बीडीसी सदस्यों को ब्लॉक में जाने की अनुमति दी तो सपा सदस्यों को साप्ताहिक बाजार की ओर से अंदर भेजा जाने लगा। मतदान के दौरान ही अचानक कुछ लोगों ने ओवरब्रिज पर फायरिंग शुरू कर दी। अचानक फायरिंग से पुलिस सकते में आ गई तो उपद्रवियों ने पथराव शुरू कर दिया। इसके बाद सपा और भाजपा समर्थकों में मारपीट होने लगी। हालात बिगड़ते देखकर पुलिस ने लाठीचार्ज करके सपा-भाजपा समर्थकों को खदेड़ा। पुलिस फायरिंग करने वालों की धरपकड़ में जुटी है।

मुजफ्फरनगर में भाकियू-भाजपा कार्यकर्ता भिड़े

मुजफ्फरनगर जनपद में बुढ़ाना ब्लॉक प्रमुख पद के लिए मतदान शुरू होने पर भाकियू प्रत्याशी पाल्लो देवी के पुत्र पूर्व ब्लॉक प्रमुख विनोद मलिक और भाजपा विधायक उमेश मलिक के बीच जमकर नोकझोंक हुई। इसके बाद भाकियू और भाजपा समर्थक आमने-सामने आ गए। हंगामे की सूचना पर भाकियू अध्यक्ष नरेश टिकैत मौके पर पहुंचे। उन्होंने पुलिस प्रशासन पर भाजपा विधायकों के दबाव में काम करने का आरोप लगाया। सूचना पर जिलाधिकारी सेल्वाकुमारी जे और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक यादव भी मौके पर पहुंच गए। पुलिस अधिकारियों ने स्थिति को किसी तरह से संभाला।

हमीरपुर में सपा उम्मीदवार और समर्थकों पर हमला

जिले में ब्लॉक प्रमुख की पांच सीटों के लिए शनिवार को मतदान के दौरान सपा और भाजपा समर्थकों में झड़प हुई। ब्लॉक प्रमुख पद के प्रत्याशी की स्कार्पियो पर भाजपा समर्थकों ने लाठी, डंडे और कुल्हाड़ी से हमला कर वाहन क्षतिग्रस्त कर दिया। प्रत्याशी का भाई समेत कई लोग घायल हुए है। प्रत्याशी ने भागकर जान बचाई है। पुलिस ने हंगामा करने वालों पर लाठियां भी भांजी है। इसी तरह सुमेरपुर ब्लॉक प्रमुख पद के सपा प्रत्याशी के तीन दर्जन से अधिक सदस्य उरई के एट में एक महाविद्यालय में शुक्रवार को रुकवाए गये थे। जहां भनक लगते ही भाजपा समर्थकों ने पहुंचकर जानकारी की तो वहां हंगामा खड़ा हो गया। भाजपा समर्थकों के साथ जमकर मारपीट की गई। पुलिस ने कई लोगों को हिरासत में लिया लेकिन आज तड़के सभी सदस्यों को सप नेताओं के विरोध पर छोड़ भी दिया गया। सपा जिलाध्यक्ष राजबहादुर पाल ने बताया कि उरई से तीन दर्जन से अधिक बीडीसी सदस्य आज मतदान करने जा सुमेरपुर ब्लाक जा रहे थे तभी भाजपा के लोगों ने हमला कर दिया है। इस मामले को लेकर इधर कुरारा, गोहांड, राठ, सरीला ब्लाक में मतदान जारी है। प्रेक्षक नगेन्द्र प्रताप व जिलाधिकारी ज्ञानेश्वर त्रिपाठी मतदान स्थलों का निरीक्षण किया। चित्रकूट के आईजी के सत्यनारायण ने पुलिस अधीक्षक एनके सिंह के साथ ब्लॉक सुमेरपुर पहुंचकर घटना की जानकारी की। उन्होंने पुलिस को मुस्तैदी से कार्य करने के निर्देश दिये है।

इटावा में पुलिस पर पथराव, फायरिंग

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में बढ़पुरा ब्लॉक में भाजपा कार्यकर्ताओं ने पुलिस पर पथराव कर दिया। इस बीच हवाई फायरिंग भी हुई। भाजपा विधायक सरिता भदौरिया जिलाध्यक्ष अजय धाकरे की मौजूदगी पुलिस पर पथराव हुआ। स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़कर भाजपा कार्यकर्ताओं को खदेड़ा। सपा समर्थकों पर भाजपा उम्मीदवार के साथ मारपीट कर मतदाताओ को भड़काने का आरोप है। मतदान स्थल के बाहर खड़े मतदाताओ को मतदान करने से रोका गया, भाजपा विधायक सरिता भदौरिया और डीएम एसएसपी के बीच हुई तीखी नोकझोंक, मौके पर भारी पुलिस बल समेत आला अधिकारी मौजूद रहे।

बलिया में गोली चलने की सूचना

बलिया में सोहांव ब्लॉक के मतदान केन्द्र से एक किलोमीटर दूर गोली चलने की घटना से हड़कंप। घटना पर पहुंची पुलिस ने जब मौका मुआयना किया तो पुलिस ने गोली चलने से इनकार किया है। जनपद नौ ब्लाकों के लिए मतदान हो रहा है। आठ ब्लाकों में पहले ही निर्विरोध निर्वाचन हो चुका है।

सुलतानपुर में भाजपा और निर्दल उम्मीदवार समर्थकों के बीच झड़प

जिले के लंभुआ ब्लॉक प्रमुख चुनाव के बीच भाजपा और निर्दलीय उम्मीदवार समर्थकों के बीच झड़प बढ़ी। अपर पुलिस अधीक्षक विपुल श्रीवास्तव भारी फोर्स के साथ पहुंचे और मामले को शांत कराया। दोनों समर्थकों के बीच हल्की मारपीट हुई है। स्थिति की गंभीरता देखते हुए मौके पर जिलाधिकारी रवीश गुप्ता और पुलिस अधीक्षक डॉ विपिन मिश्रा पहुंच गये। उत्पात मचा रहे लोगों के खिलाफ पुलिस ने अभियान अभियान चलाया। क्यूआईटी की मदद से उत्पात मचाने वालों को खदेड़ा गया।

अम्बेडकनगर : सपा नेता और पुलिस में धक्का-मुक्की

जलालपुर विकास खंड में प्रमुख, क्षेत्र पंचायत के लिए हो रहे मतदान के दौरान उस समय विवाद की स्थिति उत्पन्न हो गई जब सपा विधायक सुभाष राय क्षेत्र पंचायत सदस्यों को साथ लेकर मतदान केंद्र पर जाने का प्रयास करने लगे। सुभाष राय को जब वहां मौजूद पुलिस बल ने रोकने का प्रयास किया तो समर्थकों ने धक्का—मुक्की करना शुरु कर दिया। देखते ही देखते सपा नेता व कार्यकर्ता स्थानीय प्रशासन व सरकार के विरुद्ध नारेबाजी करने लगे। उनका कहना था कि जिला प्रशासन, सरकार के इशारे पर बेईमानी करने में लगा हुआ है तथा भाजपा नेता मतदान केंद्र के अंदर जाकर क्षेत्र पंचायत सदस्यों से जबरन मतदान करवा रहे हैं। मौके पर उप जिलाधिकारी आलोक पांडे, क्षेत्राधिकारी के के शुक्ला भारी पुलिस बल के साथ मौजूद थे। उप जिला अधिकारी का कहना है कि स्थिति नियंत्रण में है।