Mon. Nov 29th, 2021

फर्रुखाबाद जिला जेल बंदियों के कब्जे से मुक्त, पथराव में जेलर समेत 30 पुलिस कर्मी घायल


उपद्रव के दौरान घायल एक बंदी का अस्पताल में कराया जा रहा इलाज

 बचाव में जेल पुलिस प्रशासन को करनी पड़ी फायरिंग, तीन घंटे की मशक्कत के बाद स्थिति पर मिला काबू



फर्रुखाबाद, 07 नवम्बर (हि.स.)। फर्रुखाबाद जनपद की जिला जेल में रविवार को उस वक्त सुरक्षा में सेंध लग गई जब एक बंदी की मौत पर जेल में निरूद्ध बंदियों ने उत्पात मचाना शुरू कर दिया। जेल पर कब्जा करते हुए उग्र बंदियों ने सुरक्षा कर्मियों पर पथराव करते हुए आगजनी की। कैदियों के उपद्रव को शांत कराने में जेलर, डिप्टी जेलर सहित 30 पुलिस कर्मियों के घायल हो गए। वहीं, एक बंदी को जेल से इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया है। फिलहाल जिला जेल में बंदियों के उपद्रव पर काबू पा लिया गया है और बंदियों को बैरकों में बंद कर निगरानी बढ़ा दी गई है।

दरअसल, जिला जेल में निरूद्ध बन्दी संदीप के बीमार होने पर उसे इलाज के लिए सैफई जेल में स्थानांतरण कर दिया गया था। जेल से ट्रांसफर की खबर के बाद उसकी मौत हो गई। साथी बंदी की मौत पर रविवार को भड़के बंदियों ने जेल में जमकर तोड़ फोड़ और आगजनी शुरू कर दी। बंदियों के उत्पात को पहले तो जेल प्रशासन भीतर ही भीतर दबाने का प्रयास करता रहा लेकिन जब हालात बेकाबू हो गए तो आलाधिकारियों को सूचना दी।

जेल के अंदर आग की सूचना पर दो दमकल की गाड़ियां जेल गेट पर आ गयी। वहीं, भारी पुलिस बल के साथ पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार मीणा व जिलाधिकारी संजय कुमार सिंह, नगर मजिस्ट्रेट भी मौके पर पहुंच गए। बंदियों के जेल पर कब्जे किए जाने की खबर पर लगभग सभी थानों का फोर्स, एसओजी टीम व पीएसी बल भी आ गयी। इस बीच जेल के अंदर से फायरिंग की आवाजें आती रहीं।

जेल के भीतर हालात काबू करने के लिए छतों पर पहुंचकर पुलिस कर्मियों ने उत्पात मचा रहे बंदियों को एलाउंमेंट कर चेतावनी दी और बैरकों में जाने को कहा। इस दौरान उग्र बंदी नहीं माने और पथराव करने लगे। जिस पर सुरक्षा कर्मियों को फायरिंग कर उन्हें काबू करने का प्रयास किया। बंदियों और पुलिस कर्मियों के बीच तीन घंटे की मोर्चा बंदी चली और तब जाकर उत्पाती बंदियों का गुस्सा शांत हुआ। पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार मीना ने बताया कि जिला जेल में बंदियों पर काबू पा लिया गया है। सभी को अपने-अपने बैरकों में बंद कर निगरानी की जा रही है।

पथराव में जेलर, डिप्टी जेलर सहित 30 कर्मी घायल

जानकारी के मुताबिक, जेल में बवाल के दौरान हुए बंदियों के पथराव में जेलर अखिलेश कुमार, डिप्टी जेलर रामधनी, थाना मऊदरवाजा का सिपाही जितेन्द्र कुमार घायल हो गया। इसके साथ ही लगभग 27 पुलिस कर्मी और घायल हुए हैं। कुल मिलाकर बंदियों के उत्पात में 30 कर्मियों के चोटें आई हैं। यह जानकारी पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार ने दी है।

घायल बंदी का चल रहा इलाज

जिला जेल में भड़के बंदियों ने आगजानी व पथराव किया। उन्हें काबू करने में पुलिस बल को काफी मशक्कत करनी पड़ी। इस दौरान सुरक्षा कर्मियों पर हुए पथराव में कई कर्मी घायल हो गए। पुलिस को भी बवाली बंदियों को काबू करने के लिए पर्याप्त बल प्रयोग करना पड़ा। बवाली बंदियों को चेतावनी देते हुए हवाई फायरिंग के साथ लाठी से खदेड़ा गया। इस दौरान राजेपुर का बंदी शिवम घायल हो गया। घायल बंदी को उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाया गया। उसकी हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। वहीं, जिला जेल में बवाल के बाद पास ही स्थित सेंट्रल कारागार फतेहगढ़ में भी सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद कर दी गई है।