Sun. Jan 23rd, 2022

13 नवंबर को एक और इतिहास रचने जा रही है बुद्ध की धरती बिहार की राजधानी पटना


इसका गवाह बनेगा पटना गोल्फ क्लब. यहां पहली बार दिल्ली विश्वविद्यालय के पूर्ववर्ती छात्रों का मिलन समारोह का आयोजन होने जा रहा है

हमारा ध्येय : अपने जड़ों से दोबारा जुड़ना. अपनी माटी बिहार के लिए कुछ सार्थक करना. यहां के प्रतियोगी छात्रों का मार्गदर्शन करना



पटना, 12 नवंबर : 1922 में दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) की स्थापना के बाद पहली बार दिल्ली विश्वविद्यालय के पूर्व छात्रों का मिलन समारोह का आयोजन किया जा रहा हैइसका गवाह बनेगा महान मगध की ऐतिहासिक राजधानी और बुद्ध की धरती बिहार की राजधानी पटना. एलुमनी मीट का आयोजन प्रतिष्ठित पटना गोल्फ क्लब में 13 नवंबर को शाम 5:00 बजे से रात 10:30 बजे तक किया जाएगा.

 

 

डीयू रिटर्न्स एक ऐसा समावेशी संगठन है, जिसका साझा लक्ष्य लोगों की भलाई के लिए काम करना है. www.dureturns.org के तहत हमारा प्रयास दिल्ली विश्वविद्यालय के पूर्व छात्रों को एक साथ लाना है. एक दूसरे के समर्थन से एक ऐसा मंच तैयार करना, जिसके माध्यम से बिहार और बिहार के लोगों की भलाई और उन्नति के लिए काम किया जा सके. यहां के छात्रों के उज्जवल भविष्य के लिए एक मार्ग प्रशस्त किया जा सके.

 

हम लोग दिल्ली विश्वविद्यालय के पूर्ववर्ती छात्र हैं. इस प्रतिष्ठित संस्थान से किसी ने स्नातक की पढ़ाई की है तो किसी ने परास्नातक काफी संख्या में पीएचडी की है. बड़ी संख्या में कानून की पढ़ाई करने वाले हैं.

 

हम कह सकते हैं की डीयू के पूर्ववर्ती छात्र हर क्षेत्र में अपनी सफलता का लोहा मनवा रहे हैं. हर क्षेत्र में अहम पदों पर कार्यरत हैं.

प्रशासनिक सेवा, न्यायिक सेवा, कॉरपोरेट, मीडिया, विज्ञापन एवम शिक्षा के क्षेत्रों में अहम पदों पर हैं. डीयू के पूर्ववर्ती छात्र काफी संख्या में प्रतिष्ठित वकील हैं और स्थापित राजनेता भी हैं. फिलहाल हमलोग देश और विदेश के विभिन्न हिस्सों में रह रहे हैं. इस कार्यक्रम के माध्यम से ऐसे लोगों को एकजुट करने का हमारा एक सार्थक प्रयास है. अपनी जड़ों से दोबारा जुड़कर अपनी माटी, अपनी मातृभूमि के लिए कुछ सार्थक करने की तमन्ना है. हम अपने संसाधनों, ज्ञान, कौशल, संस्कृति और सामाजिक जीवन को अपने लोगों के साथ साझा करने के लिए उत्सुक हैं। हमारा प्रयास दूसरे राज्यों में बसे लोगों को बिहार वापस लाकर इसकी बेहतरी के लिए कुछ करना है।

 

इस आयोजन के लिए डीयू के पूर्ववर्ती छात्रों की सकारात्मक प्रतिक्रिया से हम अभिभूत हैं. कोरोना प्रोटोकॉल और कार्यक्रम की व्यवस्था की वजह से 350 विशिष्ट पूर्व छात्रों की सहमति मिलने के बाद हमें पंजीकरण बंद करने के लिए विवश होना पड़ा. पंजीकरण कराने वालों में न्यायपालिका के सदस्य, नौकरशाह, निर्वाचित प्रतिनिधि, प्रोफेशनल, शिक्षक, प्रोफेसर आदि शामिल हैं.

 

 

एलुमनी मीट का औपचारिक शुभारंभ हमारे विशिष्ट अतिथियों द्वारा शाम 6:30 बजे शुभ दीप प्रज्ज्वलित कर किया जाएगा। हमने एलईडी वॉल के साथ कलाकारों के प्रदर्शन के लिए 20×40 फीट के मंच की व्यवस्था की है। फेसबुक और यूट्यूब पर इवेंट को लाइव स्ट्रीम करने के लिए ड्रोन कैमरों के साथ अत्याधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा।

 

कार्यक्रम : एक नजर में

 

राधा बल्लभ द्वारा तबला वादन की प्रस्तुति

पुरुष और महिला एलुमनी द्वारा गायन और वादन की प्रस्तुति

 

साहित्य अकादमी से सम्मानित  लेखक, गायक, कवि निलोत्पल मृणाल की प्रस्तुति. नीलोत्पल कई बेस्टसेलर उपन्यास के लेखक हैं.

–  अजमेर के मशहूर साबरी ब्रदर्स द्वारा कव्वाली की प्रस्तुति. साबरी ब्रदर्स को अब तक के सबसे महान सूफी कव्वाली गायकों में से एक माना जाता है। उन्हें अक्सर शहंशाहकव्वाली के नाम से जाना जाता है। उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका और अन्य पश्चिमी देशों में कव्वाली की है।