Sun. Jan 23rd, 2022

20 नवंबर इतिहास के पन्नों में


‘फ्लाइंग सिख’ का जन्मः 20 नवंबर 1929 को गोविंदपुरा (अब पाकिस्तान के पंजाब प्रांत का इलाका) में मिल्खा सिंह का जन्म हुआ। देश के बंटवारे की त्रासदी, उससे उपजे हालात में हर तरफ लहू में नहाया मंजर, आंखों के सामने माता-पिता एवं अपने कई भाई-बहनों को खो देने का दर्द, भूख-छटपटाहट के बीच जिंदगी की दौड़ में मिल्खा सिंह का आखिरकार भारत के सर्वश्रेष्ठ एथलीट का ताज हासिल करना, हर देशवासी को गौरवान्वित करता है। 18 जून 2021 को 91 साल की उम्र में मिल्खा सिंह का कोरोना से निधन हो गया।

कार्डिफ, वेल्स में 1958 के कॉमनवेल्थ खेल में स्वर्ण पदक जीतने के बाद मिल्खा सिंह वैश्विक परिदृश्य में पहली बार किसी चमकते सितारे की तरह नजर आए। वर्ष 1959 में पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित मिल्खा सिंह ने 1960 ग्रीष्म ओलंपिक और 1964 के टोक्यो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व किया। वे भारत के सर्वश्रेष्ठ एथलीट्स में शामिल हैं और उन्हें ‘फ्लाइंग सिख’ कहा गया। दरअसल, 1960 में मिल्खा को पाकिस्तान की इंटरनेशनल एथलीट प्रतियोगिता में हिस्सा लेने का न्यौता मिला लेकिन बंटवारे की कड़वी यादों की वजह से वे पाकिस्तान जाना नहीं चाहते थे। तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के समझाने पर वे राजी हो गए।

पाकिस्तान के उस समय के सबसे तेज धावक अब्दुल खालिक की हौसला आफजाई के लिए तकरीबन साठ हजार दर्शक थे। लेकिन मिल्खा सिंह की रफ्तार के सामने खालिक टिक नहीं पाए। इसी सफलता के बाद वे ‘फ्लाइंग सिख’ के नाम से मशहूर हुए। मिल्खा सिंह ने पंजाब के खेल निदेशक और भारत सरकार के साथ खेलकूद प्रोत्साहन के लिए भी काम किया। फिल्म निर्माता राकेश ओमप्रकाश मेहरा ने 2013 में उनकी बेशुमार संघर्ष से भरी जिंदगी पर आधारित फिल्म ‘भाग मिल्खा भाग’ बनायी जो बहुत कामयाब और चर्चित रही।

अन्य अहम घटनाएं:

1934: असम के राज्यपाल रहे जनरल अजय सिंह का जन्म।

1984: मशहूर शायर फैज अहमद फैज का निधन।

1989: भारतीय महिला रेसलर बबीता फोगाट का जन्म।

2017: वरिष्ठ कांग्रेस नेता प्रियरंजन दास मुंशी का निधन।