Sun. Dec 5th, 2021

09 नवंबर इतिहास के पन्नों में


आनुवांशिक इंजीनियरिंग की नींव रखने वाले वैज्ञानिकः डीएनए रसायन से जुड़ी खोज से क्रांति लाने वाले भारतीय मूल के अमेरिकी वैज्ञानिक डॉ. हरगोविंद खुराना का 09 नवंबर 2011 को अमेरिका में निधन हो गया।

डॉ. खुराना आनुवांशिक कोड की भाषा समझने और उसकी प्रोटीन संश्लेषण में भूमिका के प्रतिपादन के लिए जाने जाते हैं। वर्ष 1968 में इससे जुड़ी खोज के लिए उन्हें दो अन्य अमेरिकी वैज्ञानिकों डॉ. रॉबर्ट डब्ल्यू होली और डॉ. मार्शल निरेनबर्ग के साथ साझा तौर पर चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया। वे नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाले भारतीय मूल के तीसरे व्यक्ति थे।

आनुवांशिक इंजीनियरिंग की बुनियाद में अहम भूमिका निभाने वाले डॉ. हरगोविंद खुराना का जन्म 9 जनवरी 1922 को रायपुर (जिला मुल्तान, पंजाब) नामक कस्बे में हुआ। पंजाब विश्वविद्यालय से पढ़ाई करने वाले डॉ. खुराना छात्रवृत्ति पाकर इंग्लैंड गए। उन्होंने अमेरिका में तीन विश्वविद्यालयों में काम किया और 1966 में अमेरिकी नागरिकता हासिल की।

आनुवांशिकी इंजीनियरिंग में डॉ. खुराना ने एक और योगदान दिया। वे अपनी टीम के साथ खमीर जीन में पहली कृत्रिम प्रतिलिपि संश्लेषित करने में सफल रहे। आखिरी समय तक वे अध्ययन और अनुसंधान कार्यों से जुड़े रहे। 1969 में भारत सरकार की तरफ से पद्मभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

अन्य अहम घटनाएंः

1270ः महान संत नामदेव का जन्म।

1877ः शायर मोहम्मद इकबाल का जन्म।

1931ः संविधान विशेषज्ञ, प्रसिद्ध न्यायविद और लेखक लक्ष्मीमल्ल सिंघवी का जन्म।

1936ः मशहूर हिंदी कवि सुदामा पांडेय धूमिल का जन्म।

1947ः जूनागढ़ भारतीय संघ में शामिल।

1960ः भारत के पहले एयर चीफ मार्शल सुब्रत मुखर्जी का निधन।

1980ः फिल्म अभिनेत्री पायल रोहतगी का जन्म।

1989ः ब्रिटेन में मौत की सजा पर पूरी तरह से रोक लगायी गयी।

2000ः उत्तर प्रदेश से पृथक उत्तराखंड राज्य की स्थापना।

2005ः पूर्व राष्ट्रपति के.आर. नारायणन का निधन।

2020ः स्पेनिश मूल के मशहूर गुजराती लेखक व पादरी फादर वालेस का निधन।