Sat. Dec 4th, 2021

उत्तराखंड की तर्ज पर देशभर की समितियों को किया जाएगा कम्प्यूटराइज्ड: अमित शाह


राज्य की 670 एम्पैक्स का हुआ कम्प्यूटरीकरण

माताओं और बहनों का बोझ कम करेगा घस्यारी: शाह



देहरादून, 30 अक्टूबर (हि.स.)। केन्द्रीय गृह और सहकारिता मंत्री अमित शाह ने आज कहा कि उत्तराखण्ड की तर्ज पर देशभर की सहकारिता समितियों का कम्प्यूटरीकरण किया जाएगा। निकट भविष्य में देश के सभी राज्य उत्तराखंड के मॉडल को अपना सकते हैं।

यहां बन्नू स्कूल में आयोजित कार्यक्रम में केंद्रीय गृह, सहकारिता मंत्री अमित शाह, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट ने मुख्यमंत्री घस्यारी कल्याण योजना और सहकारिता समितियों के कम्प्यूटरीकरण शुभारम्भ किया। राज्य की समस्त 670 बहुउद्देश्यीय प्राथमिक कृषि ऋण सहकारी समितियों (एमपैक्स) का भी विधिवत रूप से कम्प्यूटीकरण किया गया। साथ ही सहकारिता ट्रेनिंग सेंटर का भी उद्घाटन किया गया।

केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री घस्यारी कल्याण योजना के शुरू किए जाने और सभी एमपैक्स के कम्प्यूटरीकरण पर प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और सहकारिता मंत्री डा.धन सिंह रावत को बधाई देते हुए इसे अभिनव पहल बताया। उन्होंने कहा कि पिछले पौने पांच साल में सभी मुख्यमंत्री के कार्यकाल में प्रदेश का चहुंमुखी विकास हुआ है। युवा मुख्यमंत्री धामी के नेतृत्व में तेजी से विकास कार्य किए जा रहे हैं।

माताओं-बहनों को मिलेगी बड़ी राहत-

केंद्रीय मंत्री शाह ने मुख्यमंत्री घस्यारी कल्याण योजना को प्रदेश की भौगोलिक स्थिति को देखते हुए इसे बहुत महत्वपूर्ण बताया। इससे खास तौर माताओं व बहनों को काफी राहत मिलेगी और उनका बोझ कम होगा। वे अपना समय दूसरे आय अर्जन में समय का उपयोग कर सकती है। साइंटिफिक पौष्टिक पशु चारा मिलने से गायों की दुग्ध उत्पाद क्षमता में तेजी आएगी। मक्का उत्पादन को बढ़ावा देने से किसानों को भी लाभ मिलेगा।

उत्तराखण्ड मॉडल का किया जाएगा अध्ययन-

सहकारिता मंत्री अमित शाह ने कहा कि यह बड़ी खुशी की बात है कि उत्तराखंड में प्रदेश की 670 एमपैक्स के कम्प्यूटरीकरण का कार्य पूरा कर लिया गया है। जितना ज्यादा डिजीटलाइजेशन होगा, सहकारिता से जुड़े लोगों को उतनी ही अधिक सहूलियत होगी। तेलंगाना के बाद ऐसी करने वाला उत्तराखंड दूसरा राज्य है। सहकारिता मंत्रालय की ओर से देश भर की सहकारिता समितियों के पूर्ण कम्प्यूटरीकरण पर काम किया जाएगा। इसके लिए उत्तराखंड मॉडल का अध्ययन किया जाएगा।

सहकारिता मंत्रालय से आंदोलन को मिला बल-

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि गरीबों का दर्द प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दिल में रहता है। उन्होंने देश के सहकारिता आंदोलन को आगे बढ़ाया है। अमृत महोत्सव में सहकारिता का अलग से पहली बार मंत्रालय बनाया गया है। उनका सौभाग्य है कि वे देश के पहले सहकारिता मंत्री बने हैं। अलग से सहकारिता मंत्रालय का गठन किसानों, मजदूरों, मछुआरों और सहकारिता से जुड़े लोगों के जीवन में बडा परिवर्तन लाएगा।

85 हजार करोड़ से अधिक की मिली परियोजनाएं-

केन्द्रीय गृह और सहकारिता मंत्री शाह ने कहा कि श्रद्धेय अटल जी ने उत्तराखण्ड राज्य का गठन किया था। अब प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन में इसे संवारा जा रहा है। पिछले लगभग 5 साल में चार धाम सड़क परियोजना,ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना,एनएच पर किए गए कामों सहित 85 हजार करोड़ से अधिक की परियोजनाएं केंद्र से राज्य के लिए स्वीकृत हुई हैं। इनमें से बहुत सी योजनाओं पर काम हो गया है, बहुत सी योजनाओं पर तेजी से काम चल रहा है। 5 नवम्बर को प्रधानमंत्री केदारनाथ आ रहे हैं। बदरीनाथ जी के मास्टर प्लान पर भी काम चल रहा है।

धामी सरकार जागरूक-

अमित शाह ने कहा कि उत्तराखंड सरकार ने कोरोनारोधी टीकाकरण का कार्य जिस तेजी से किया है, वह सराहनीय है। उत्तराखंड में तमाम जगह ऑक्सीजन प्लांट लगाए गए। हाल ही में आई आपदा में मुख्यमंत्री एवं सरकार द्वारा तत्परता से कार्य किया गया। उत्तराखंड का विकास ऐसी जागरूक सरकार से ही संभव है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में उत्तराखंड एवं देश तेजी से विकास कर रहा है। उन्होंने कहा उज्ज्वला योजना,आयुष्मान भारत योजना जैसी तमाम योजनाओं से जनता को लाभ पहुंचाने का कार्य किया गया है। वन रैंक वन पेंशन की मांग को प्रधानमंत्री मोदी जी ने पूरा किया। केदारनाथ मंदिर एवं बद्रीनाथ मंदिर का विकास कार्य तेजी से चल रहा है।

आपदा में केंद्र से तत्काल मिली सहायता-

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का स्वागत करते हुए कहा कि हाल ही में आई आपदा में अमित शाह जी ने प्रदेश की हर सम्भव सहायता की। उन्होंने एक अभिभावक की तरह हमारा साथ दिया। उत्तराखंड में आई आपदा में तत्परता दिखाते हुए राज्य में बचाव कार्य के लिए सेना के 3 हेलीकॉप्टर उपलब्ध कराए। आपदा के दौरान डेढ़ लाख से ज्यादा तीर्थयात्री प्रदेश में आए हुए थे। समय पर अलर्ट होने और प्रशासनिक मशीनरी को सक्रिय करने से इसमें एक भी तीर्थयात्री की मृत्यु नहीं हुई।

इस मौके पर उत्तराखण्ड के कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज, डा.हरक सिंह रावत,सुबोध उनियाल, गणेश जोशी,रेखा आर्य,स्वामी यतिश्वरानंद, बिशन सिंह चुफाल, बंशीधर भगत,भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष मदन कौशिक,सांसद अनिल बलूनी,अजय टम्टा, नरेश बंसल,माला राज्य लक्ष्मी शाह, दुष्यंत गौतम, रेखा वर्मा, लोकेट चटर्जी,पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, तीरथ सिंह रावत, विजय बहुगुणा, मेयर सुनील उनियाल गामा, विधायकगण एवं अन्य गण्यमान्य लोग मौजूद थे।