Fri. Jul 30th, 2021

बूटा सिंह लाल किला हिंसा का आरोपित गिरफ्तार, 50 हजार का था इनाम


नई दिल्ली, 30 जून (हि.स.)। लाल किला हिंसा मामले में फरार चल रहे बूटा सिंह को दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने गिरफ्तार किया है। आरोपित बीते पांच महीने से फरार चल रहा था। उसकी गिरफ्तारी पर 50 हजार रुपये का इनाम घोषित था। कोर्ट से उसे भगोड़ा घोषित करने की प्रक्रिया शुरू की जा चुकी थी। पुलिस उससे लाल किला हिंसा में उसकी भूमिका को लेकर पूछताछ कर रही है।
अपराध शाखा की डीसीपी मोनिका भारद्वाज ने बताया कि बीते 26 जनवरी को हुई लाल किला हिंसा मामले में बड़ी संख्या में उपद्रवियों ने हंगामा किया था। इस घटना में 400 से ज्यादा पुलिसकर्मी घायल हुए थे। कोतवाली थाने में हिंसा को लेकर एफआईआर दर्ज की गई थी। बाद में इसकी जांच अपराध शाखा को सौंप दी गई थी। इस मामले में कई आरोपितों को अपराध शाखा और स्पेशल सेल ने गिरफ्तार किया था, लेकिन बूटा सिंह लगातार फरार चल रहा था। उसकी गिरफ्तारी पर 50 हजार रुपये का इनाम भी घोषित किया गया था। बूटा सिंह पंजाब के तरनतारन का रहने वाला है।
पंजाब से गिरफ्तार हुआ आरोपित
अपराध शाखा की टीम को सूचना मिली कि वांछित बूटा सिंह अपने गांव में मौजूद है। इस जानकारी पर अपराध शाखा की टीम ने पंजाब स्थित गांव में छापा मारा। स्थानीय लोगों ने वहां पर जमकर पुलिस का विरोध किया, लेकिन उसे अपराध शाखा ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस टीम उसे लेकर दिल्ली आ गई है। उसे कोर्ट के समक्ष पेश कर रिमांड पर लिया जाएगा और साजिश से संबंधित पूछताछ की जाएगी।
निशान साहिब फहराने में था शामिल
पुलिस के अनुसार, आरोपित बूटा सिंह लाल किला पर निशान साहिब का झंडा फहराने वालों में शामिल था। इसकी वीडियो क्राइम ब्रांच को मिली थी। आरोपित ने पुलिस को बताया कि वह किसान आंदोलन के समर्थन में था। उसने सोशल मीडिया पर आंदोलन से संबंधित कई पोस्ट देखे थे। वह कई बार सिंघु बॉर्डर भी आया था। लाल किला पर वह अपने पांच से छह साथियों को लेकर आया था। यहां से हिंसा के बाद वह फरार हो गया था।