Sun. Oct 17th, 2021

ब्रिटेन में 90 फीसदी पेट्रोल पंप बंद होने से भारी तेल संकट


लंदन, 28 सितंबर (हि.स.)। ब्रिटेन में ट्रक चालकों की भारी कमी के चलते देश अराजकता की तरफ तेजी से बढ़ रहा है। खाद्य संकट के साथ ही ब्रिटेन के 60 से 90 फीसदी पेट्रोल और गैस पंप खाली होने से भारी तेल संकट के हालात पैदा हो गए हैं। सरकार के तत्कालिक सभी उपाय फिलहाल दम तोड़ते नजर आ रहे हैं। पेट्रोल पंपों पर फ्यूल समाप्त होने से लोग यहां वहां भटकने को मजबूर हैं। यह समस्या ब्रेक्जिट और ट्रक ड्राइवरों की भारी कमी के चलते हुई है, जिसका सीधा असर देश की अर्थव्यवस्था पर पड़ सकता है।

ब्रिटेन में अधिकांश पेट्रोल पंपों को ड्राय घोषित किए जाने के बाद से जिन पेट्रोल पंपों पर सप्लाई चालू है, वहां भी अराजकता की स्थिति पैदा हो गई। ईंधन की कमी से न केवल खाने-पीने के सामान की भारी किल्लत हो गई है, बल्कि ट्रांसपोर्ट सिस्टम पर भी बुरा असर देखने को मिल रहा है।

इसका काकरण ब्रिटेन की सप्लाई चेन ही चरमराने के बाद रिफाइनरी से पेट्रोल पंपों तक तेल नहीं पहुंच पाना है। बड़ी संख्या में ट्रक सड़कों के किनारे खड़े हैं, लेकिन उनको चलाने वाला कोई नहीं है जिसके कारण हालात बदतर हो चुके हैं।

प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की सरकार ने नेचुरल गैस की कीमतों में बढ़ोतरी के कारण खाने-पीने के सामानों में आई कमी को रोकने के लिए लाखों पाउंड खर्च करने का ऐलान किया है। कैबिनेट के कई मंत्री लोगों से घबरा कर खरीदारी करने से बचने की अपील कर रहे हैं। इसके बावजूद देश के लगभग सभी पेट्रोल पंपों पर एक तरह की ही स्थिति दिखाई दे रही है।

रविवार को ब्रिटेन में कई पेट्रोल पंपों को ड्रॉय घोषित करने के बाद बंद करना पड़ा। गैस स्टेशनों का भी यही हाल है। ब्रिटेन में पेट्रोल पंप विक्रेताओं के संगठन पेट्रोल रिटेलर्स एसोसिएशन ने बताया है कि कुछ क्षेत्रों में 60 से 90 फीसदी पंप बंद करने पड़े हैं। इन पंपों पर डीजल-पेट्रोल और गैस खत्म हो चुकी है। हमें सप्लाई ही नहीं मिल पा रही है।

ब्रिटिश सरकार कस्टमर तक फ्यूल की पहुंच सुनिश्चित करने के लिए सेना को बुलाने पर विचार कर रही है। लेकिन, ट्रक ड्राइवर, गैस स्टेशन और पेट्रोल पंप विक्रेताओं ने चेतावनी दी है कि इससे कोई फायदा नहीं होने वाला है। हमें कम से कम 10 हजार ड्राइवरों की जरूरत है। इसके लिए नए ड्राइवरों को ट्रेनिंग और लाइसेंस देने पर काम करना चाहिए।