Sun. Sep 20th, 2020

कोटा: चंबल नदी में 50 लोगों से भरी नाव डूबी, बचाव व राहत दल जुटा


मासूम बच्चे और महिलाएं भी नाव में सवार थीं



कोटा, 16 सितम्‍बर (हि.स.)। जिले की सीमा के आखिरी क्षेत्र खातोली के गोठड़ा गांव में बुधवार सुबह चंबल नदी पार करते समय यात्रियों से भरी एक नाव डूब गई। नाव में 50 से अधिक लोग सवार थे, इनमें बच्चे, बुजुर्ग और महिलाएं भी शामिल हैं। लोग कई के डूबने की आशंका जता रहे हैं। हादसे की सूचना मिलते ही कोटा जिला कलेक्टर उज्जवल सिंह राठौड़ और एसपी (ग्रामीण) शरद चौधरी समेत प्रशासन के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं। साथ ही यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने भी हादसे की जानकारी ली और कलेक्टर व एसपी से बात करके त्वरित रेस्क्यू ऑपरेशन चलाने के निर्देश दिए हैं।
स्थानीय लोगों के अनुसार कोटा ग्रामीण जिले के खतौली स्थित गोठड़ा गांव में लकड़ी की नाव से 50 से ज्यादा लोग चंबल नदी पार कर रहे थे। नाव में यात्रियों ने मोटरसाइकिल भी रखी थी और महिलाएं, बच्चे, युवा व बुजुर्ग सवार थे। अचानक नाव अनियंत्रित हो गई। उसमें पानी भर गया। कई लोग नदी में कूद गए तो बहुत लोग नाव डूबने के साथ ही पानी में बह गए। कुछ लोगों ने तैरकर जान बचाई। मौके पर ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गई है। उन्हीं में से कुछ लोगों ने नदी में डूब रहे लोगों को बचाने का प्रयास किया। सूचना पाकर तब तक पुलिस के जवान भी मौके पर पहुंच गए। वहीं कोटा से भी बचाव और राहत दल घटनास्थल के लिए रवाना हो गया।
ग्रामीणों ने बताया कि एक नाव में 50 से अधिक लोग गोठड़ा गांव से चंबल नदी पार कर रहे थे, लेकिन अभी तक यह पता नहीं चल पाया है कि कितने लोग नदी में डूबे हैं। वहीं नाव डूबने से ग्रामीणों में हाहाकार मचा है। खबर लिखने तक कोटा से पहुंचे बचाव राहत दल, नगर निगम की रेस्क्यू टीम सहित एसडीआरएफ के जवान नदी में डूबे लोगों को निकालने में लगे हैं।