Mon. Aug 2nd, 2021

गेट्स फाउंडेशन से दिया इस्‍तीफा वॉरेन बफे ने , 4.1 अरब डॉलर किया दान

Warren Buffett, chairman and chief executive officer of Berkshire Hathaway Inc., center right, and Bill Gates, billionaire and co-founder of the Bill and Melinda Gates Foundation, center left, watch a newspaper toss outside a Clayton Homes Inc. display on the exhibit floor ahead of the Berkshire Hathaway annual meeting in Omaha, Nebraska, U.S., on Saturday, May 6, 2017. Buffett said during the Berkshire investors gathering that he's more inclined than usual this year to sell some assets because the tax advantage could soon diminish for divesting securities at a loss.


न्यूयॉर्क 24 जून (हि. स.)। विश्व के सबसे धनी व्यक्तियों में से एक वॉरेन बफे ने बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के ट्रस्टी पद से इस्तीफा दे दिया है। इसके साथ ही वह फाउंडेशन के संरक्षक भी नहीं रहेंगे। इस्तीफा देने के साथ ही बफे ने बुधवार को ट्रस्ट को 4.1 अरब डॉलर मूल्य की संपत्ति (करीब 30 हजार करोड़ रुपये) बर्कशायर हैथवे दान करने का ऐलान भी किया है।

बफे ने पिछले साल भी बर्कशायर के करीब 2 अरब डॉलर के शेयर गेट्स फाउंडेशन को दान किए थे। बफे ने वर्ष 2006 में ऐलान कर दिया था कि वह अपनी 99 फीसदी संपत्ति दान कर देंगे।

4.1 अरब डॉलर दान करने की घोषणा के साथ ही बफे ने कहा कि मैंने अपना आधा लक्ष्य हासिल कर लिया है। करीब 90 वर्षीय बफे ने कहा कि आज के 4.1 अरब डॉलर के योगदान के साथ ही मैंने आधा रास्ता पार कर लिया है। वर्ष 2006 में 99 फीसदी अपनी संपत्ति दान करने की घोषणा के बाद से वह पांच चैरिटेबल संस्थाओं को हर साल बड़ी रकम दान कर रहे हैं। बफे ने गेट्स फाउंडेशन के बोर्ड से इस्तीफा देने के  कारणों की जानकारी नहीं दी है।

 दुनिया की सबसे बड़ी कंपनियों में शामिल माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स और उनकी पत्नी मेलिंडा गेट्स 27 साल के वैवाहिक जीवन के बाद मई 2021 में तलाक की अर्जी दे चुके हैं। इसके बावजूद उन्होंने गेट्स फाउंडेशन के कामकाज में सहयोग का वादा किया है। बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशा 21 साल पुराना हो चुके है। इस दौरान फाउंडेशन दुनिया भर में स्वास्थ्य के क्षेत्र में काम करने वाले सबसे प्रमुख संगठनों में शामिल हो चुका है। अपने दो दशक के कामकाज के दौरान यह फाउंडेशन 50 अरब डॉलर से ज्यादा रकम गरीबी और बीमारियों के खिलाफ लड़ाई में खर्च कर चुका है।