Mon. Jul 6th, 2020

करोड़ों रूपये की सम्पत्ति का मालिक निकला गिरफ्तार फर्जी आईआरएस अधिकारी


इटावा, 13 जून (हि.स.)। उत्तर प्रदेश के इटावा जनपद में पुलिस टीम के द्वारा पकड़ा गया भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) का फर्जी अधिकारी करोड़ों रूपये की संपत्ति का मालिक निकला है। पुलिस की जांच में पता चला कि आरोपित के पास ग्वालियर और नोयडा में करोड़ों रूपये की कीमत के फ्लैट हैं। पुलिस टीम उसकी सम्पति के बारे में और जानकारी इकट्ठा करने में जुटी है।
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर ने आज बताया कि शुक्रवार देर रात वाहन चेकिंग के दौरान पकड़े गए फर्जी आईआरएस अधिकारी के पास करोड़ों रूपये की संपत्ति है। आरोपित अधिकारी बनकर लोगों से करोड़ों रूपये की ठगी कर सम्पत्ति बनाई है। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार फर्जी आईआरएस अधिकारी मनीष कुमार जाटव जोकि थाना जसवन्तनगर क्षेत्र के जगसौरा गांव का रहने वाला है। गिरफ्तारी के बाद जांच में उसकी करोड़ों रूपये की सम्पत्ति होने का भी खुलासा हुआ है।
उन्होंने बताया कि फर्जी अधिकारी मनीष जाटव ने ग्वालियर स्थित जीवाजी यूनिवर्सिटी से कम्प्यूटर साइंस में एमएससी किया है। वह अपने आपको 2012 बैच का आईआरएस अधिकारी बताता था। वह नोयडा में पारसनाथ प्रेस्टीज सेक्टर 93A फ्लैट नम्बर F-417 में फर्जी रॉ अधिकारी बनकर रहता था। उन्होंने बताया कि उसके नाम पर ग्वालियर में भी एक फ्लैट है।  मनीष जाटव सिंडिकेट बैंक में 2008 में भर्ती हुआ था। वह (मुरादाबाद, ग्वालियर, भोपाल, अहमदाबाद में तैनात रहा, लेकिन फर्जी लोन देने के कारण उसका डिमोशन हुआ था और 2017 से अक्टूबर 2018 तक उसने कैनरा और सिंडिकेट बैंक में काम किया उसके बाद वह बिना अनुमति गैर हाजिर हो गया। मनीष जाटव के खिलाफ डिपार्टमेंटल इन्क्वायरी में चार्जशीट लग चुकी है।
उन्होंने बताया कि गिरफ्तार मनीष जाटव आईआरएस के साथ-साथ सीबीआई एवं अन्य विभागों का अधिकारी बनकर ठगी किया करता था। उन्होंने बताया कि मनीष जाटव ने अपने नाम से एक फर्जी बेबसाइट भी बनवा रखी थी, जिसमे केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के साथ कि तस्वीर और अन्य कई लोगों के साथ ली हुई तस्वीरें अपलोड की हुई मिली हैं। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार फर्जी अधिकारी पत्रकारों के साथ टीम बनाकर रेड डाला करता था पहले वह किसी के भी खिलाफ राज्य सरकार के जनशिकायत पोर्टल आईजीआरएस पर झूठी शिकायत दर्ज करवाकर फिर खुद को सरकार का अधिकारी बताते हुए शिकायत का विवेचक बनकर लोगों के साथ ठगी किया करता था। एसएसपी ने बताया कि गिरफ्तार ठगी गिरोह के लोग करोड़ों रूपये की ठगी कर चुके हैं जिनसे करोड़ों रूपये की सम्पत्ति बनाई गई है।
गिरफ्तार फर्जी अधिकारी के पास से करोड़ों रूपये की चल-अचल संपत्ति के साथ साथ लग्जरी कार लाखों रुपये के हथियार और नौ करोड़ रुपये की चेक बरामद हुई है। चेक देखकर अनुमान लगाया जा रहा है कि इस गिरोह ने किसी बड़े व्यक्ति के साथ ठगी को अंजाम दिया है।