Mon. May 23rd, 2022

सेंधमारी के मामले में ‘जीजा साला’ गिरफ्तार


नई दिल्ली, 12 मई (हि.स.)। बाहरी दिल्ली में एक टेंपो की चोरी कर जीजा और साला की जोड़ी सेंधमारी की ताबड़तोड़ वारदात को अंजाम दे रहा था। बाहरी जिले के रणहौला थाना पुलिस ने घटनास्थलों से मिले सीसीटीवी कैमरों के फुटेज की जांच करते हुए बदमाशों की कार के जरिए पुलिस बदमाशों तक पहुंच गई। पुलिस ने साला और जीजा को गिरफ्तार कर लिया है और उनके तीसरे साथी की तलाश कर रही है।

उीसीपी समीर शर्मा ने गुरुवार को बताया कि गिरफ्तार बदमाशों की पहचान जय विहार निवासी राजवीर सिंह और उसके साले की पहचान होलंबीकलां निवासी कपिल के रूप में हुई है। उनके कब्जे से पुलिस ने घरेलू सामान एक लोहे की अलमारी,फ्रिज, सिलिंडर, गैस स्टोव, बर्तन, गद्दे, कपड़े के दो बैग और टेंपो और इको स्पोर्टस कार बरामद की है। पुलिस ने सेंधमारी के छह मामले सुलझाने का दावा किया है। चोरी की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए पुलिस ने एक टीम गठित कर मामले की छानबीन शुरू की।

टीम ने चोरी के मामलों के अपराध स्थल के पास के सभी सीसीटीवी फुटेज की जांच की। कुछ सीसीटीवी कैमरों में घटनास्थल के पास एक सफेद रंग का टेंपो दिखा। नंबर की जांच में पता चला कि टेंपो नरेला औद्योगिक क्षेत्र से चोरी किया गया था। पुलिस उस जगह पर लगे सीसीटीवी कैमरे को खंगाला, जहां से टेंपो को चुराया गया था। घटनास्थल पर पुलिस ने एक इको कार को टेंपो के पीछे पीछे चलते देखा।

इस बीच पुलिस को बापरोला के एक प्लॉट में टेंपो के खड़े होने की जानकारी मिली। पुलिस टीम वहां पहुंची। टेंपो में घरेलू सामान लदा था। उसके पास ही इको स्पोर्टस कार खड़ी थी। कार नंबर की जांच में पता चला कि कार राजवीर सिंह की पत्नी के नाम पर रजिस्टर है। उसके बाद पुलिस ने राजवीर के घर पर दबिश देकर उसे गिरफ्तार कर लिया। जांच में पता चला कि राजवीर आदतन अपराधी है और उसपर सेंधमारी, चोरी, डकैती और शस्त्र अधिनियम के 25 मामलों में दर्ज हैं।

पूछताछ में राजवीर ने बताया कि पहले वह बिजली के तार चुराता था। इसके बाद वह अपने साले और एक साथी बदायूं यूपी निवासी चंद्रभान के साथ चोरी करने लगा। राजवीर की निशानदेही पर पुलिस ने उसके साले कपिल को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस अधिकारी ने बताया कि फरार चंद्रभान की तलाश में दबिश दे रही है।