Sun. Jan 23rd, 2022

सीमा क्षेत्र विकास योजना को जल्द से जल्द पूर्ण करायें : जिलाधिकारी


बगहा, 23 दिसम्बर(हि.स.)। जिलाधिकारी कुंदन कुमार ने कहा कि सीमा क्षेत्र विकास कार्यक्रम अत्यंत ही महत्वपूर्ण योजना है। इसके तहत अंतरराष्ट्रीय सीमा पर स्थित दुर्गम एवं सुदूर क्षेत्रों में रहने वाले व्यक्तियों की आवश्यकताओं को विशेष योजनाओं के माध्यम से पूरा किया जाना है। उन्होंने कहा कि इस योजना का उदेश्य सीमावर्ती क्षेत्रों के लोगों को विभिन्न मदों के माध्यम से आवश्यक आधारभूत संरचनात्मक विकास मौजूद कराना है। उन्होंने कहा कि नेपाल सीमावर्ती भिखनाठोरी एवं आसपास के क्षेत्रों में पानी की किल्लत से आमजन को जूझना पड़ता है। साथ ही वन्य प्राणियों को भी प्यास बुझाने के लिए परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इस क्षेत्र में विभिन्न जल स्रोतों का निर्माण कराना जरूरी है। इसके लिए एक बड़ा वाटर कंजरवेशन प्रोजेक्ट चलाया जाय। प्रोजेक्ट-जल संचय के माध्यम से विभिन्न प्रकार के जल संचयन के उपाय किये जाय। प्रोजेक्ट जल संचय से ज्यादा से ज्यादा हरियाली आएगी तथा आमजन सहित जानवरों को भी पानी की कमी नहीं होगी।

जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को निदेश दिया कि इन क्षेत्रों में बड़े-बुजुर्गों से बात कर पम्परागत जल स्रोत जो अब लुप्त हो गये हैं, जानकारी प्राप्त करें तथा इनके जीर्णोंद्धार हेतु आवश्यक कार्रवाई करें। साथ ही अंचलाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी को एसएसबी से समन्वय स्थापित कर वाटर रिचार्ज टैंक निर्माण हेतु स्थल का चयन शीघ्र करें। उन्होंने कहा कि इसके अतिरिक्त अन्य कारगर उपाय करने की आवश्यकता है ताकि लोगों को पानी के लिए परेशनियां नहीं झेलनी पड़ी। जिलाधिकारी सीमा क्षेत्र विकास कार्यक्रम के तहत सीमावर्ती प्रखंडों बगहा-02, रामनगर, गौनाहा, मैनाटांड़ एवं सिकटा में विभिन्न विकासात्मक एवं कल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन हेतु आज जिलास्तरीय चयन समिति की बैठक में अधिकारियों को निदेशित कर रहे थे। इस बैठक में लगभग 50 करोड़ की लागत से कृषि, शिक्षा, खेल, स्वास्थ्य, सड़क/पुल आदि से संबंधित विभिन्न स्ट्रॉक्चर के निर्माण से संबंधित प्रस्तावों पर विचार-विमर्श किया गया।

जिलाधिकारी ने कहा कि पूर्व के वित्तीय वर्षों में लंबित योजनाओं को अविलंब पूर्ण कराना सुनिश्चित किया जाय। बॉर्डर एरिया डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत क्रियान्वित योजनाओं में गुणवता का पूरा ख्याल रखा जाय। गुणवता के साथ कोई समझौता नहीं किया जायेगा। गड़बड़ी करने वाले व्यक्तियों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने कहा कि बॉर्डर एरिया डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत विभिन्न विद्यालयों में बनने वाले एडिशनल क्लास रूम के निर्माण में आ रही बाधाओं को तुरंत दूर करते हुए अविलंब एडिशनल क्लास रूम का निर्माण कराया जाय ताकि छात्र-छात्राओं को परेशानियों का सामना नहीं करना पड़े। समीक्षा के क्रम में बताया गया कि पूर्व के वितीय वर्ष में लिये गये कई योजनाओं को ड्रॉप करने की आवश्यकता है। जिलाधिकारी ने निदेश दिया कि ड्रॉप करने से पूर्व सभी योजनाओं का पुनः भौतिक सत्यापन कराया जाय। संबंधित अधिकारी स्थलीय निरीक्षण करेंगे तथा प्रतिवेदन उपलब्ध करायेंगे।