Fri. Jul 1st, 2022

सिकंदराबाद में अग्निपथ के विरोध में बवाल, ट्रेन में लगाई आग, पुलिस फायरिंग में एक की मौत


दक्षिण मध्य रेलवे ने की दो सौ से अधिक ट्रेन और शहर की एमएमटीएस रेल सेवा रद्द

प्लेटफार्म पर खड़ी ईस्ट कोस्ट एक्सप्रेस में आग लगने के बाद भगदड़ में 20 यात्री घायल

हैदराबाद, 17 जून (हि.स.)। सेना में युवाओं की भर्ती के लिए केन्द्र सरकार की घोषित अग्निपथ योजना के विरोध में सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर युवाओं ने हिंसक प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान युवाओं ने सिकंदराबाद मुख्य रेलवे स्टेशन पर रेलवे पार्सल ऑफिस और ईस्ट कोस्ट एक्सप्रेस ट्रेन के डिब्बों को आग लगा दी। प्रदर्शनकारियों को काबू में करने के लिए पुलिस को फायरिंग करनी पड़ी। इस फायरिंग में एक युवक की मौत हो गई है। प्रदर्शन को देखते हुए दक्षिण मध्य रेलवे ने दो सौ से अधिक ट्रेनों और शहर की एमएमटीएस रेल सेवा को रद्द कर दिया है। समाचार लिखे जाने तक युवा रेलवे ट्रैक पर कब्जा करे बैठे थे।

केन्द्र सरकार की सेना में युवाओं की भर्ती के लिए नई योजना अग्निपथ के विरोध में शुक्रवार को बड़ी संख्या में युवाओं ने प्रदर्शन किया। पुलिस के अनुसार बड़ी संख्या में युवकों ने 9 बजे के आसपास सिकंदराबाद मुख्य रेलवे स्टेशन पहुंचकर प्रदर्शन किया और रेलवे पार्सल ऑफिस, रेस्टोरेंट और एक ट्रेन के डिब्बों को आग लगा दी। प्रदर्शनकारियों के प्लेटफार्म पर खड़ी हावड़ा जाने वाली ईस्ट कोस्ट एक्सप्रेस को आग लगाने से यात्रियों में अफरातफरी मच गई। इस दौरान भागदौड़ में 20 से अधिक यात्री गंभीर रूप से घायल हुए है। प्रदर्शनकारियों को काबू में करने के लिए पुलिस काे फायरिंग करनी पड़ी। पुलिस ने इस फायरिंग में एक आंदोलनकारी की मौत होने की पुष्टि की है। मृतक की पहचान दामोदर के रूप में हुई है।

प्रदर्शन को देखते हुए दक्षिण मध्य रेलवे के महाप्रबंधक ने आपातकालीन बैठक बुलाई और अपने रेलवे क्षेत्र की दो सौ से अधिक ट्रेनों को रद्द कर दिया। साथ ही शहर में एमएमटीएस रेल सेवा को भी रद्द कर दिया गया। खबर लिखे जाने तक हिंसक प्रदर्शन जारी था। रेलवे पुलिस के डायरेक्टर जनरल संदीप शांडिल्य ने आंदोलनकारी से बातचीत करने के प्रयास किया लेकिन हिंसा बढ़ती देख कर वह पीछे हट गए। पुलिस ने दोबारा फायरिंग करने की चेतावनी दी है।

हजारों युवा अभी भी रेल पटरी पर बैठे हैं। प्रदर्शनकारियों ने रेलवे स्टेशन के निकट राज्य परिवहन निगम के बस को भी नुकसान पहुंचाया है। समाचार मिलने तक पुलिस प्रशासन सख्ती से निपटने का निर्णय लिया है और रेलवे स्टेशन की विद्युत आपूर्ति बंद कर दी है। पुलिस ने स्थिति पर काबू पाने के लिए रैपिड एक्शन फोर्स को घटनास्थल पर बुलाया है। रेलवे पुलिस अधीक्षक ने मीडिया को बताया कि अभी स्थिति काबू में है।

पुलिस के अनुसार सोची समझी साजिश के तहत यह हिंसक प्रदर्शन किया गया है, क्योंकि एक व्हाट्सएप ग्रुप के जरिए 17 जून को सिकंदराबाद स्टेशन पर लोगों को आमंत्रित किया गया था। पार्सल ऑफिस में आग लगाने से लगभग 20 करोड से अधिक नुकसान होने की अधिकारिक पुष्टि की गई है।