Mon. May 23rd, 2022

”सर्जना पराक्रम शिविर” में आत्मरक्षा से राष्ट्ररक्षा का गुर सीख रही सैकड़ों छात्राएं


बेगूसराय, 06 मई (हि.स.)। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (अभाविप) द्वारा एक बार फिर ”मिशन साहसी” के तहत छात्राओं को आत्मरक्षा कर राष्ट्ररक्षा का गुर सिखाने के लिए ”सर्जना पराक्रम शिविर” की शुरुआत हो गई है। सबसे पहले मटिहानी इकाई द्वारा राघव सिंह के नेतृत्व में नगर निगम के वार्ड संख्या-18 में आत्मरक्षा का गुर सिखाने के लिए मिशन साहसी की शुरुआत की गई है।

अभाविप के जिला संयोजक सोनू सरकार ने बताया कि जिस प्रकार से समाज में छात्राओं के साथ एसिड अटैक, दुष्कर्म एवं छेड़छाड़ आदि की घटनाएं हो रही हैं, उसको देखते हुए मिशन साहसी अभियान चलाया जा रहा है। अभाविप द्वारा अभी मटिहानी में शुरू किया गया है, इसके बाद बेगूसराय के अन्य सभी प्रखंडों में भी यह कार्यक्रम चलाया जाएगा। यह अभियान तब सफल होगा, जब छात्राएं पूरी तरह आत्मनिर्भर हो जाएंगी। इससे उन्हें एंटी रोमियों टीम एवं अन्य किसी के सहारे की जरूरत नहीं पड़ेगी, महिलाएं निडर होकर कहीं भी आने-जाने लगेगी।

नगर मंत्री पुरुषोत्तम कुमार ने कहा कि छात्राओं को आगे बढ़ाने और नेतृत्व करने के लिए अभाविप तरह-तरह का कार्यक्रम चला रही है। जिसका परिणाम है कि छात्राओ में विश्वास जग रहा है, वे आगे भी आत्म विश्वास के बल पर बड़े-बड़े फैसले लेने में सक्षम होते हैं। शारीरिक एवं मनोवैज्ञानिक रूप से सशक्त छात्रा समाज को एक प्रखर नेतृत्व एवं दिशा प्रदान करती है। इसके लिए विद्यार्थी परिषद इस प्रकार विशेष अभियान का कार्यक्रम कर रही है।

सामाजिक कार्यकर्ता राघव कुमार एवं प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य आदित्य राज ने कहा कि आज के समय में कानून या प्रशासन आपको न्याय दिलाने में सक्षम नहीं है। इसलिए छात्राओं को आत्मरक्षा का ज्ञान होना समाज के लिए लाभदायक है। ताकि जरूरत पड़ने पर हम पर निर्भरता के विचार को त्याग कर अपनी रक्षा खुद कर सकें, साथ ही अन्य जरूरतमंदों की भी रक्षा कर सकें तथा समाज को यह संदेश जाए कि नारी सशक्त भारत की आधारशिला है। मौके पर विद्यालय के शिक्षक, प्रशिक्षक एवं ग्रामीण मौजूद थे। कार्यक्रम को लेकर छात्राओं में एक अलग तरह का उत्साह है तथा वे सभी पूरे मनोयोग से अपनी रक्षक के लिए शौर्य कला सीख रही हैं।