Thu. Feb 22nd, 2024

सदर विधान सभा में मुस्लिम मतदाताओं का कांग्रेस की ओर धुर्वीकरण, भाजपा,कांग्रेस में सीधी टक्कर


फर्रुखाबाद,17 फरवरी (हि .स.)। सदर विधान सभा में छिड़ी चुनावी जंग में सभी उम्मीदवार सियासी चौसर पर गोटियां बिछाने में जुटे हुए है। सपा उम्मीदवार की चुनावी सभा में किसी भी मुस्लिम को मंच पर स्थान न दिए जाने से मुस्लिम मतदाताओं का धुर्वीकरण कांग्रेस उम्मीदवार लुईस खुर्शीद की ओर हो गया है। जिससे कांग्रेस और भाजपा में सीधी टक्कर के आसार बन गए हैं। सपा उम्मीदवार मुस्लिम मतदाताओं को तरजीह नहीं दे रही हैं। जिससे मुस्लिम मतदाताओं में खासी नाराजगी भी देखी जा रही है।

जिले की सदर विधान सभा से मौजूदा समय में भाजपा से निवर्तमान विधायक मेजर सुनीलदत्त द्विवेदी चुनाव मैदान में है। कांग्रेस से पूर्व विधायक लुईस खुर्शीद चुनाव लड़ रही है। सपा से सुमन मौर्य ओर बसपा से विजय कटियार चुनाव मैदान में हैं। सभी दल चुनाव जीतने के लिए एड़ी से चोटी तक जोर लगाए हुए हैं। जिससे इस विधान सभा में चुनावी समीकरण पल पल बदल रहे हैं। सपा उम्मीदवार सुमन मौर्य की बुधवार को चुनावी सभा सम्पन्न हुई। इस सभा में बनाये गए मंच पर एक भी मुस्लिम नेता को स्थान नहीं दिया गया। वरिष्ट सपा नेता उमर खां मंच के नीचे आम मतदाता की तरह बैठे रहे। सपा के प्रदेश सचिव यूनुस अंसारी को मीटिंग की कोई जानकारी नहीं दी गई। अपनी झिझक छुटाने के लिए वह पंचम नगरिया में हो रही पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की सभा में भाग लेने चले गए। मंच पर मुस्लिम नेताओं को न बैठाने पर मुस्लिम मतदाताओं में नाराजगी देखी जा रही है। सभा में हुए अपमान को देख कर मुस्लिम मतदाता शहर क्षेत्र में सपा से किनारा करता नजर आ रहा है ।इस अपमान की वजह से मुस्लिम मतदाताओं का धुर्वी करण कांग्रेस उम्मीदवार लुइस खुर्शीद के पक्ष में हो गया है। मुस्लिम मतदाताओं के धुर्वी करण से अब भाजपा और कांग्रेस में कांटे की टक्कर हो गई है। जहां भाजपा उम्मीदवार मेजर सुनील दत्त द्विवेदी को हर जाति वर्ग का समर्थन मिल रहा है। वहीं कांग्रेस उम्मीदवार लुईस खुर्शीद का जादू भी हर जाति वर्ग के मतदाता के सिर चढ़ बोल रहा है। सपा उम्मीदवार के समर्थकों का कहना है कि मुसलमानों की मजबूरी सपा को वोट देना है। जिससे मुस्लिम सपा की झोली से उछल कर कांग्रेस की झोली में चला गया है। बसपा उम्मीदवार विजय कटियार कुर्मी मतदाताओं में सेंध मारी में लगे हुए हैं। जिससे चुनावी समीकरण दिलचस्प मोड़ की ओर मोड़ ले लिया है।