Sun. May 22nd, 2022

वाशिंगटन पोस्ट ने सार्वजनिक सेवा में जीता पुलित्जर पुरस्कार


– रॉयटर्स को कोविड कवरेज के लिए फीचर फोटोग्राफी की श्रेणी मिला यह सम्मान

– यूक्रेन के पत्रकारों को रूसी आक्रमण की कवरेज के लिए एक विशेष प्रशस्ति पत्र से किया गया सम्मानित

वाशिंगटन, 10 मई (हि.स.)। अमेरिका के समाचार पत्र वाशिंगटन पोस्ट ने सार्वजनिक सेवा पत्रकारिता में पुलित्जर पुरस्कार जीता है। वहीं समाचार एजेंसी रॉयटर्स को भारत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान कवरेज के लिए फीचर फोटोग्राफी की श्रेणी में यह पुरस्कार जीता है।

भारतीय समयानुसार सोमवार और मंगलवार की दरमियानी रात 12 बजे के बाद इस पुरस्कार की घोषणा हुई। वार्षिक पुलित्जर पुरस्कार अमेरिकी पत्रकारिता में सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार है।

पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के समर्थकों द्वारा यूएस कैपिटल की घेराबंदी की कवरेज के लिए वाशिंगटन पोस्ट ने सार्वजनिक सेवा के लिए पुलित्जर पुरस्कार जीता, जबकि रॉयटर्स ने भारत में कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर के दौरान कवरेज के लिए फीचर फोटोग्राफी की श्रेणी में यह पुरस्कार जीता। रॉयटर्स के दिवंगत पत्रकार दानिश सिद्दीकी को मरणोपरांत यह सम्मान मिला है। दानिश अफगानिस्तान में युद्ध कवरेज के दौरान मारे गए थे।

पुलित्जर पुरस्कार की प्रशासक मार्जोरी मिलर ने बताया कि यूक्रेन के पत्रकारों को रूसी आक्रमण की कवरेज के लिए एक विशेष प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया गया। मिलर ने कहा कि पुलित्जर पुरस्कार बोर्ड यूक्रेन के पत्रकारों को उनके साहस, धीरज और रूस में उनके प्रचार युद्ध के दौरान सच्ची रिपोर्टिंग के लिए प्रतिबद्धता के लिए एक विशेष प्रशस्ति पत्र प्रदान करते हुए प्रसन्न है।

इनके अलावा मियामी हेराल्ड ने कॉन्डोमिनियम भवन के ढहने की कवरेज के लिए ब्रेकिंग न्यूज रिपोर्टिंग के लिए यह पुरस्कार जीता। इस घटना में 98 लोग मारे गए थे।

इसी तरह न्यूयॉर्क टाइम्स ने तीन श्रेणियों में पुलित्जर पुरस्कार जीते हैं। इसके अलावा न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्टर एंड्रिया इलियट ने अपनी पुस्तक इनविजिबल चाइल्ड: पॉवर्टी, सर्वाइवल एंड होप इन ए अमेरिकन सिटी के लिए सामान्य गैर-कथा श्रेणी में पुलित्जर पुरस्कार जीता।

उल्लेखनीय है कि पुलित्जर पुरस्कार पत्रकारिता के क्षेत्र का अमेरिका का सबसे सर्वोच्च पुरस्कार है। इसकी शुरुआत 1917 में हुई थी। प्रभावशाली समाचार पत्र प्रकाशक जोसेफ पुलित्जर, जिनकी 1911 में मृत्यु हो गई थी, ने अपनी वसीयत में इस पुरस्कार को शुरू करने की बात कही थी। उन्होंने कोलंबिया विश्वविद्यालय में एक पत्रकारिता स्कूल शुरू करने और पुरस्कार स्थापित करने में मदद करने के लिए फंड की व्यवस्था की थी। पुलित्जर अमेरिका का ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में इसे पत्रकारिता का सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार माना जाता है।