Wed. Sep 28th, 2022

रक्तदान में जुटी सैकड़ों की भीड़, सांसद सहित 11 कार्यकर्ताओं ने किया रक्तदान


बेगूसराय, 18 सितम्बर (हि.स.)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्म दिवस के अवसर पर शुरू रक्तदान अमृत महोत्सव ने देश में एक दिन में एक लाख यूनिट से अधिक रक्तदान कर एक नया इतिहास रच दिया। लेकिन बेगूसराय में यह कार्यक्रम पूरी तरह से फेल हो गया। कार्यक्रम के तहत भाजयुमो कार्यकर्ता सहित विभिन्न संस्थानों द्वारा रक्तदान अभियान शुरू किया गया है।

सदर अस्पताल में राज्यसभा सदस्य प्रो. राकेश सिन्हा ने सदर अस्पताल में भाजयुमो द्वारा आयोजित शिविर में रक्तदान किया। इस अवसर पर भाजपा एवं भाजयुमो के सैकड़ों लोग जुटे हुए थे, जिसमें राज्यसभा सदस्य प्रो. राकेश सिन्हा सहित कुल 11 लोगों ने जीवन दान देने के लिए राष्ट्रकवि दिनकर ब्लड बैंक में रक्तदान किया। भाजयुमो द्वारा कम से कम एक सौ लोगों को रक्तदान करने की सूचना दी गई थी, इसके मद्देनजर ब्लड बैंक ने तैयारी भी कर रखा था, लेकिन मात्र 11 यूनिट रक्तदान ही हो सका। हालांकि इसके अलावा रेलवे प्रोटक्शन सिक्योरिटी फोर्स (आरपीएफ) के चार जवानों, कला कुंज के छह कार्यकर्ताओं ने रक्तदान किया। दूसरी ओर हिंदुस्तान उर्वरक एवं रसायन लिमिटेड (हर्ल) बरौनी में लगाए गए कैंप में दस लोगों ने रक्तदान किया। जिसके कारण सदर अस्पताल के दिनकर ब्लड बैंक में जरुरतमंदों के लिए कुल 31 यूनिट रक्त जमा हो गया। हालांकि रक्तदान में भी सदर अस्पताल में 25 रूपये प्रति यूनिट का घोटाला हो गया।

बिहार एड्स कंट्रोल सोसायटी द्वारा प्रत्येक रक्तदाताओं के लिए 25 रूपये का मिठाई या कोल्ड ड्रिंक देने का प्रावधान किया गया है। इसके लिए अस्पताल को आवंटन भी उपलब्ध कराया जाता है, लेकिन सदर अस्पताल प्रशासन द्वारा एक भी रुपया खर्च नहीं किया गया। फिलहाल बेगूसराय में रक्तदान का अमृत महोत्सव भले ही अपने लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर सका, लेकिन चर्चा का विषय जरूर बन गया है।