Sat. Jun 25th, 2022

योग हमारे देश की प्राचीन धरोहर: साध्वी निरंजन ज्योति


लखनऊ, 21 जून (हि.स.)। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर मंगलवार को केन्द्रीय राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने लखनऊ स्थित रेजीडेंसी में लोगों के साथ योगाभ्यास किया। इस अवसर पर साध्वी निरंजन ज्योति ने कहा कि योग हमारे देश की प्राचीन धरोहर है। योग भारत के ऋषि-मुनियों द्वारा प्रदत्त धरोहर है।

केन्द्रीय राज्य मंत्री ने कहा कि गीता में योगेश्वर भगवान श्रीकृष्ण ने योग की चर्चा की है। महर्षि पतंजलि का प्रथम श्लोक हमें अनुशासन की प्रेरणा देता है। शरीर स्वस्थ रहेगा तो मन मस्तिष्क स्वस्थ रहेगा।

साध्वी निरंजन ज्योति ने कहा कि हम अपने दर्शन को भूल चुके थे। योग को भूल रहे थे। योग गुरु बाबा रामदेव ने जन-जन में योग की अलख जगायी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अंतराष्ट्रीय योग दिवस के माध्यम से पूरे विश्व में योग की अलख जगाई।

केन्द्रीय राज्यमंत्री ने कहा कि योग करने वाला कभी विचलित नहीं होगा। शरीर को योग का मंदिर बनाएं। योग से हमारा चलायमान मन शांत होता है। आत्मा से परमात्मा को जोड़ने का मार्ग है योग।

उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने इस अवसर पर कहा कि आज उत्तर प्रदेश के 75 हजार स्थानों पर योग के कार्यक्रम हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि केवल अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के दिन ही योगाभ्यास न करें। योग को दैनिक दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य भी उपस्थित रहे। लखनऊ विश्वविद्यालय के योग विभाग के विभागाध्यक्ष डा.अमरजीत यादव के निर्देशन में कार्यक्रम संपन्न हुआ। उपस्थित लोगों को कपालभाति प्राणयाम के अलावा ताड़ासन,त्रिकोण आसन,उत्कट आसन आदि का अभ्यास कराया गया।