Wed. Aug 10th, 2022

युगांडा-कांगो सीमा पर संयुक्त राष्ट्र शांति सैनिकों ने की दो लोगों की हत्या


-संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने नाराजगी जताई, घटना को बताया शर्मनाक

किंशासा, 1 अगस्त (हि.स.)। अफ्रीकी देशों युगांडा और कांगो की सीमा पर संयुक्त राष्ट्र शांति सैनिकों ने दो लोगों की हत्या कर दी है। इसके बाद जमकर हंगामा मचा है और प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतर आए हैं। संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने घटना पर नाराजगी जताने के साथ इसे शर्मनाक करार दिया है।

जानकारी के मुताबिक युगांडा-कांगो सीमा पर संयुक्त राष्ट्र संघ के शांति सैनिक तैनात हैं। इस संबंध में व्यापक रूप से सोशल मीडिया पर साझा किये गए एक वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है कि एक बैरिकेड खोलने से पहले शांति सैनिकों ने गोलियां चलाईं। कांगो की सरकार ने इस घटना की निंदा की। सरकार ने बयान जारी कर कहा है कि घटना में कांगो के दो नागरिक मारे गए और 15 अन्य घायल हो गए। दो लोगों की जान जाने के बाद कांगो में हंगामा मच गया है। भारी संख्या में प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतर आए हैं और न्याय की मांग कर रहे हैं।

संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने घटना पर आक्रोश व्यक्त किया है। इस तरह की हिंसा को शर्मनाक करार देते हुए उन्होंने कहा कि आरोपितों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी।

बताया जा रहा है कि आरोपितों ने छुट्टी से घर लौटते समय घटना को अंजाम दिया। संयुक्त राष्ट्र संघ के उप प्रवक्ता फरहान हक ने वक्तव्य जारी कर कहा है महासचिव इस घटना में हताहत हुए लोगों के लिये बहुत दुखी और हताश हैं। एंटोनियो गुटेरेस ने प्रभावित परिवारों, देश के लोगों और कांगो की सरकार के साथ अपनी गहन संवेदनाएं व्यक्त की है और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना भी की है।

संयुक्त राष्ट्र संघ के विशेष प्रतिनिधि और कांगो में संयुक्त राष्ट्र स्थिरता मिशन के मुखिया बिन्तोऊ केईटा का कहना है कि सीमा चौकी पर शांति सैनिकों द्वारा गोली चलाने की परिस्थितियों के बारे में ठोस जानकारी उपलब्ध नहीं है। इस घटना से दुनिया में गलत संदेश गया है।