Tue. Jun 28th, 2022

भ्रष्टाचार के आरोप में पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री बर्खास्त


चंडीगढ़, 24 मई (हि.स.)। पंजाब सरकार ने भ्रष्टाचार के आरोपों के चलते स्वास्थ्य मंत्री विजय सिंगला को मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया है। मुख्यमंत्री ने पंजाब पुलिस को भ्रष्टाचार के आरोपों के तहत मामला दर्ज करने के आदेश जारी कर दिए हैं। सत्ता में आने के बाद मान सरकार का यह पहला बड़ा फैसला है। मुख्यमंत्री ने दावा किया है कि मंत्री ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है।

पंजाब विधानसभा के दस मार्च को चुनाव परिणाम घोषित हुए थे और 16 मार्च को मुख्यमंत्री भगवंत मान ने खटकड़ कलां में शपथ ली थी। 19 मार्च को पंजाब में नए मंत्रिमंडल का गठन किया गया था, जिसमें विजय सिंगला को स्वास्थ्य विभाग की जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने मंगलवार को एक वीडियो संदेश में कहा कि आम आदमी पार्टी सच्चे दिल से ईमानदार पार्टी है। सरकार ईमानदार है। एक रुपये की हेराफेरी भी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। भगवंत मान ने कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान जब वह पंजाब के गांव, शहर व कस्बे में जाते थे तो लोगों की आंखों में उम्मीद देखते थे कि शायद कोई ऐसा आएगा, जो उन्हें भ्रष्टाचार के दलदल से बाहर निकालेगा।

मान ने कहा कि उन्हें जब मुख्यमंत्री का उम्मीदवार घोषित किया जाना था तो आप सुप्रीमो एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि भगवंत एक पैसे की बेइमानी, भ्रष्टाचार, रिश्वत बर्दाश्त नहीं की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनके संज्ञान में आया कि स्वास्थ्य मंत्री विजय सिंगला विभाग में होने वाली खरीद-फरोख्त तथा टेंडरों में एक प्रतिशत कमीशन मांग रहे थे।

भगवंत मान ने कहा कि उन्होंने इस शिकायत की जब जांच करवाई तो आरोप सही पाए गए। इसके बाद उन्होंने मंत्री को बुलाकर जब पूछताछ की तो मंत्री ने रिश्वत के मामले में अपना गुनाह कबूल कर लिया। इसके चलते आज उन्हें न केवल मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया गया है बल्कि पंजाब पुलिस को भी निर्देश जारी कर दिए गए हैं कि वह मंत्री के खिलाफ मामला दर्ज करके आगे की विधिक कार्रवाई करे।