Tue. Jun 28th, 2022

भारत हर दो साल बाद शतरंज ओलंपियाड की मशाल जलाएगा: किरेन रिजिजू


नई दिल्ली, 20 जून (हि.स.)। केंद्रीय कानून और न्याय मंत्री किरेन रिजिजू ने सोमवार को कहा कि 44 वें शतरंज ओलंपियाड की मेजबानी भारत के लिए एक महान क्षण है। साथ ही उन्होंने कहा कि भारत में हर दो साल बाद शतरंज ओलंपियाड की मशाल जलाई जाएगी।

किरेन रिजिजू ने 44वें शतरंज ओलंपियाड के लिए मशाल रिले में फिडे (FIDE) के अध्यक्ष अर्कडी ड्वोरकोविच और पांच बार के विश्व चैंपियन विश्वनाथन आनंद के साथ भाग लिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को नई दिल्ली के इंदिरा गांधी स्टेडियम में मशाल रिले का शुभारंभ किया था।

रिजिजू ने कहा, भारत 44वें शतरंज ओलंपियाड की मेजबानी के इस पल को हमेशा संजो कर रखेगा। पहली बार इतना बड़ा आयोजन भारत में होगा। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मशाल जो वास्तव में किसी भी ओलंपिक आंदोलन की शुरुआत है।

उन्होंने कहा, मशाल का प्रज्वलन अपने आप में एक ऐसी चीज है जो उस देश के साथ गहराई से, भावनात्मक रूप से जुड़ी हुई है जहां से यह शुरू होता है। भारत में मशाल हर दो साल बाद जलाई जाएगी, क्योंकि यह सभी के लिए पवित्रता का क्षण है, इसे आगे बढ़ाया जाना चाहिए।

इस साल शतरंज ओलंपियाड में भारत का दल अब तक का सबसे बड़ा दल है। 40 दिवसीय मशाल रिले में भारतीय शतरंज समुदाय के कुछ बेहतरीन सितारे मशाल लिए नजर आएंगे। मशाल रैली का समापन एफआईडीई मुख्यालय, स्विट्जरलैंड जाने से पहले महाबलीपुरम में होगा।

मशाल रैली के अलावा, सांस्कृतिक कार्यक्रमों की योजना बनाई गई है, जिसमें एक शहर से दूसरे शहर की यात्रा करने वाली एक इंटरैक्टिव बस यात्रा और एक सांस्कृतिक परेड शामिल है।

भारत, जिसने 1956 में मॉस्को (27 वें स्थान) में इस आयोजन में अपनी शुरुआत की, के पास शतरंज ओलंपियाड से एक स्वर्ण पदक (2020 में रूस के साथ संयुक्त विजेता) और दो कांस्य पदक (2021, 2014) हैं। जबकि 2020 और 2021 के संस्करण कोविड 19 महामारी के कारण वर्चुअल आयोजित किए गए थे। 2022 संस्करण जॉर्जिया में 2018 के बाद से आयोजित होने वाला पहला ओवर-द-बोर्ड शतरंज ओलंपियाड होगा।