Wed. Aug 10th, 2022

भारत के युवाओं को पूरी दुनिया उम्मीद की नजर से देख रही : प्रधानमंत्री


-अंतरराष्ट्रीय व्यापार की गतिशीलता में भारत की स्थिति अब तक के सबसे अच्छे स्तर पर

– एक मजबूत सरकार सब कुछ या सभी को नियंत्रित नहीं करती

चेन्नई/नई दिल्ली, 29 जुलाई (हि.स.)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने युवाओं को ग्रोथ इंजन की संज्ञा देते हुए कहा कि भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया भारत के युवाओं को उम्मीद की नजर से देख रही है। उन्होंने कहा कि आप देश के विकास इंजन हैं और भारत दुनिया का विकास इंजन है।

प्रधानमंत्री ने कोरोना महामारी के खिलाफ भारत की सफलता का उल्लेख करते हुए कहा कि भारत आज बाधाओं को अवसरों में बदलकर कई क्षेत्रों में सबसे आगे है। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय व्यापार की गति में भारत की स्थिति अब तक के सबसे अच्छे स्तर पर है। भारत दुनिया भर में आपूर्ति श्रृंखला में एक अहम कड़ी बन चुका है।

प्रधानमंत्री मोदी शुक्रवार को चेन्नई में अन्ना विश्वविद्यालय के 42वें दीक्षांत समारोह में 69 स्वर्ण पदक विजेताओं को स्वर्ण पदक और प्रमाणपत्र प्रदान करने के बाद संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर तमिलनाडु के राज्यपाल आर एन रवि, मुख्यमंत्री एम के स्टालिन, केंद्रीय मंत्री एल मुरुगन भी उपस्थित थे।

सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने छात्रों को डिग्री मिलने पर बधाई देते हुए कहा कि वह कामना करते हैं कि हमारे युवाओं के सभी सपने सच हों। उन्होंने कहा कि आप अपने दिमाग में पहले से ही अपने भविष्य की रूपरेखा बना चुके होंगे। इसलिए आज का दिन न केवल उपलब्धियों का बल्कि आकांक्षाओं का भी है। प्रधानमंत्री ने भारत के युवाओं की संभावनाओं के बारे में स्वामी विवेकानंद के शब्दों को याद किया। प्रधानमंत्री ने कहा की कि पूरी दुनिया भारत के युवाओं को आशा के साथ देख रही है। क्योंकि आप देश के विकास इंजन हैं और भारत दुनिया का विकास इंजन है। प्रधानमंत्री ने अन्ना विश्वविद्यालय के साथ पूर्व राष्ट्रपति डॉ ए पी जे अब्दुल कलाम के जुड़ाव को भी याद किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि उनके विचार और मूल्य आपको हमेशा प्रेरित करते रहें।

प्रधानमंत्री ने कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) की युवाओं को निर्णय लेने का अवसर प्रदार करती है। उल्लेखनीय है कि एनईपी की आज दूसरी वर्षगांठ है। उन्होंने पीएम गतिशक्ति मास्टर प्लान का उल्लेख करते हुए कहा कि यह बुनियादी ढांचे को मजबूत बना रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि अगले 25 वर्ष युवाओं और देश के लिए महत्वपूर्ण हैं।

वैश्विक कोविड-19 महामारी को अभूतपूर्व बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने इस संकट का आत्मविश्वास के साथ बेहतर ढंग से सामना किया। उन्होंने कहा की कि प्रतिकूलताएं प्रकट करती हैं कि हम किस चीज से बने हैं। उन्होंने इसके लिए वैज्ञानिकों और अन्य लोगों को धन्यवाद देते हुए कहा कि भारत आज हर क्षेत्र एक नए जीवन के साथ हलचल कर रहा है। उद्योग, निवेश, नवोन्मेष या अंतरराष्ट्रीय व्यापार, सभी भारत को सबसे आगे देख रहे हैं।

उन्होंने कहा कि पिछले साल भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा मोबाइल फोन निर्माता था। नवाचार जीवन का एक तरीका बनता जा रहा है। केवल पिछले 6 वर्षों में, मान्यता प्राप्त स्टार्ट-अप की संख्या में 15,000 प्रतिशत की वृद्धि हुई। पिछले साल भारत को 83 अरब डॉलर से ज्यादा का रिकॉर्ड प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) मिला था। हमारे स्टार्ट-अप्स को भी महामारी के बाद रिकॉर्ड फंडिंग मिली। इन सबसे ऊपर, अंतरराष्ट्रीय व्यापार की गति में भारत की स्थिति अब तक की सबसे अच्छी स्थिति में है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले छह सालों में नवाचार अब जीवन जीने का तरीका बनता जा रहा है। गरीब से गरीब भी प्रौद्योगिकी को अपना रहा है। छोटे विक्रेता डिजिटल पेमेंट का इस्तेमाल कर रहे हैं। मजबूत सरकार सभी चीजों और सबको नियंत्रित नहीं कर सकती है।

तकनीक आधारित व्यवधानों के इस युग में प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत के पक्ष में तीन महत्वपूर्ण कारक हैं। पहला कारक यह है कि प्रौद्योगिकी के लिए एक स्वाद है। प्रौद्योगिकी के उपयोग के साथ आराम की भावना बढ़ रही है। गरीब से गरीब भी इसे अपना रहा है। दूसरा कारक जोखिम लेने वालों में विश्वास है। पहले सामाजिक अवसरों पर एक नौजवान के लिए यह कहना मुश्किल था कि वह एक उद्यमी है। लोग उन्हें ‘सेटल हो जाने’ यानी वेतनभोगी नौकरी पाने के लिए कहते थे। अब स्थिति विपरीत है।

तीसरा कारक है सुधार के लिए स्वभाव है। पहले, एक धारणा थी कि एक मजबूत सरकार का मतलब है कि उसे सब कुछ और सभी को नियंत्रित करना चाहिए। लेकिन हमने इसे बदल दिया है। एक मजबूत सरकार सब कुछ या सभी को नियंत्रित नहीं करती है। यह हस्तक्षेप करने के लिए सिस्टम के आवेग को नियंत्रित करता है। एक मजबूत सरकार प्रतिबंधात्मक नहीं है, लेकिन उत्तरदायी है। एक मजबूत सरकार हर क्षेत्र में नहीं चलती है। यह खुद को सीमित करता है और लोगों की प्रतिभा के लिए जगह बनाता है।