Sun. Jan 23rd, 2022

भाजपा ने उत्तराखंड दिया, अब इसे आदर्श राज्य बनाना है: राजनाथ सिंह


पिछली सरकार अपनी घोषणाओं के आंशिक वादे पूरे करते तो आज भारत दुनिया की महाशक्ति होता,
-भाजपा की विजय संकल्प यात्रा समापन कार्यक्रम में उत्तरकाशी जोशियाड़ा झील निकट मैदान पर बोले राजनाथ
उत्तरकाशी, 06 जनवरी (हि.स.)। केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि मैं उत्तरकाशी में भले ही 25 साल बाद आवाज आया हूं, लेकिन इस देवभूमि उत्तराखंड के लिए हमारे मन में हमेशा से सम्मान रहा है। उन्होंने कहा है कि अटल बिहारी वाजपेयी ने इस राज्य को बनाया था। भारतीय जनता पार्टी की सोच थी कि इस राज्य को आदर्श राज्य बनाया जाए, लेकिन भाई-बहनों मैं कहना चाहता हूं कि अगर कोई 5 साल में आदर्श राज्य की बात करता है तो यह सीधे -सीधे बेमानी है। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह गुरुवार को भाजपा की विजय संकल्प यात्रा के समापन कार्यक्रम पर उत्तरकाशी जोशियाड़ा झील निकट मैदान पर जनसमूह को संबोधित कर रहे थे।

रक्षा मंत्री सिंह ने कहा कि मैं आप लोगों से आह्वान करना चाहता हूं कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को जिस प्रकार से उत्तराखंड की जनता ने 2017 में प्रचंड बहुमत दिया है। वैसे ही आने वाले 2022 के चुनाव में पुनः भाजपा को भारी बहुमत से विजयी बनाएं ताकि भाजपा को समय मिल सके और इस उत्तराखंड राज्य को आदर्श राज्य बना सकें। इसके लिए एक और मौका चाहिए।
रक्षा मंत्री सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मन में उत्तराखंड के विकास को लेकर एक तड़प है। केदारनाथ में उन्होंने पुनर्निर्माण कराया है। कांग्रेस कहती है कि उत्तराखंड में भाजपा ने तीन मुख्यमंत्री बनाए। वह पूछते हैं कि भाजपा मुख्यमंत्री क्यों बदल रही है। मुख्यमंत्री बदलना भाजपा का अंदरूनी मामला है। भारतीय जनता पार्टी बहुत बड़ा परिवार है। किसको क्या जिम्मेदारी दी जाए, इस पर कांग्रेस को क्यों परेशानी है?

राजनाथ सिंह ने कहा कि हमने कभी किसी को प्रोजेक्ट कर चुनाव नहीं लड़ा। अगर हम किसी के चेहरे पर चुनाव लड़ते तो हम कभी भी मुख्यमंत्री नहीं बदलते। उन्होंने कहा कि साल 2014 के बाद कांग्रेस पहाड़ों में दुबक गई थी।

उत्तराखंड वासियों को यह तय करना होगा कि हमें ‘एक बार इसको, एक बार उसको’ की सोच से बाहर निकलना होगा। इस बार कांग्रेस को पहाड़ों से भी बाहर कर दीजिए और भाजपा को पुनः मौका जरूर दीजिए। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी है और आने वाले चुनाव में भारतीय जनता पार्टी पूरे दमखम के साथ चुनाव लड़ेगी। उन्होंने उत्तराखंड के तेज तर्रार युवा मुख्यमंत्री धामी के द्वारा किए गए विकास कार्यों की भी खूब पीठ थपथपाई।

उन्होंने कहा कि आजादी के बाद यदि सत्ता में बैठे राजनेता आंशिक रूप से भी जनता से किए हुए अपने वादों को पूरा करते तो आज भारत को दुनिया की महाशक्ति बनने से कोई नहीं रोक सकता था। यही वजह है कि जनता का नेताओं के प्रति विश्वास घटा है।

योग को हमारे ऋषि-मुनियों ने उत्तराखंड की तपोभूमि से दिया-

रक्षा मंत्री ने कहा है कि योग हमारे ऋषि-मुनियों ने उत्तराखंड की तपोभूमि से ही दिया है , लेकिन अंतरराष्ट्रीय बिरादरी तक पहुंचाने में हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने जो कार्य किया है, उसे संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी स्वीकार किया है। यही वजह है कि आज दुनिया के 170 देशों ने योग स्वीकार ही नहीं किया बल्कि अपने दिनचर्या का हिस्सा है।

आज मैं आप लोगों को बताना चाहता हूं कि नरेन्द्र मोदी के साढ़े 7 साल के कार्यकाल में अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण हो रहा है और अनुच्छेद 370 हट चुकी है। काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का यदि सौंदर्यीकरण हुआ है तो मोदी जी के कार्यकाल में लगभग 200 साल में यह पहली बार हुआ है। प्रधानमंत्री मोदी की जान लेने पर तुले कांग्रेस को जनता माफ नहीं करेगी। उन्होंने पंजाब में प्रधानमंत्री मोदी की जान से खिलवाड़ को पूरी तरह सुनियोजित और कांग्रेस प्रायोजित बताया। कहा कि न भूलें कि इस साजिश को अंजाम देने वाले चरणजीत चन्नी को हरीश रावत ने पंजाब का सीएम बनाया है।

मुख्यमंत्री धामी ने गिनाईं उपलब्धियां-

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भाजपा सरकार की उपलब्धियों को गिनाते हुए बताया कि हमने नौजवानों को रोजगार देने के लिए दिन रात काम कर रहे हैं। हमने हर वर्ग विशेष को राहत देने के लिए कार्य किया है। उन्होंने उदाहरण देकर बताया है कि शिक्षामित्रों को 15000 से बढ़ाकर 20,000 कर दिया है अतिथि शिक्षकों का 15000 से बढ़ाकर 25000 मानदेय कर दिया है। इसके अतिरिक्त आंगनबाड़ी, आशा कार्यकर्ताओं एवं अन्य कर्मचारियों को राहत देने का काम किया है।

इस मौके पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक, राज्य रक्षा मंत्रि अजय भट्ट ,भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता ज्योति प्रसाद गैरोला ,टिहरी सांसद माला राज्यलक्ष्मी साह, भाजपा जिलाध्यक्ष रमेश चौहान,चंदन सिंह आदि शामिल रहे।