Fri. Jul 1st, 2022

बिहार में ‘अग्निपथ’ : तीसरे दिन भी प्रदर्शनकारियों का बवाल


-उप मुख्यमंत्री, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के घर और कार्यालय पर हमला

-समस्तीपुर, लखीसराय और सुपौल में ट्रेनों में लगाई आग

-स्थिति संभालने के लिए पुलिस ने की हवाई फायरिंग

पटना, 17 जून (हि.स.)। केंद्र सरकार की सेना भर्ती योजना ‘अग्निपथ’ के विरोध में शुक्रवार लगातार तीसरे दिन सुबह से ही पूरे प्रदेश में प्रदर्शनकारियों ने बवाल मचा रखा है। बेतिया में उप मुख्यमंत्री रेणु देवी के आवास पर हमला हुआ। उग्र प्रदर्शनकारियों ने डिप्टी सीएम के घर पर हमला के बाद बाहर निकलने पर सड़क पर कई गाड़ियों में जमकर तोड़फोड़ की। प्रदर्शनकारी युवकों ने प्रशासन के ऊपर भी पथराव किया। पुलिस को कई राउंड हवाई फायरिंग करनी पड़ी।

बगहा में भाजपा दफ्तर में तोड़फोड़ की गई। इसके बाद एनएच-727 सुप्रिया रोड में गाड़ियों में तोड़फोड़ की गई। भीड़ ने उप मुख्यमंत्री रेणु देवी के आवास पर पथराव किया, जिसमें उनके घर का शीशा टूट गया है। हालांकि, मौके पर पहुंची पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को खदेड़ दिया। डिप्टी सीएम के आवास में रहने वाले किरायेदार और अन्य स्टाफ ने बताया कि भीड़ अंदर घुसना चाहती थी। घर का ताला तोड़ने की कोशिश की गई। आरोप लगाया गया सूचना देने के बाद भी पुलिस तुरंत मौके पर नहीं पहुंची।

समस्तीपुर में भाजपा नेता बिरेन्द्र यादव के घर पर पत्थरबाजी की गई। प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल के आवास और नर्सिंग होम पर भी हमला किया गया। भाजपा विधायक विनय बिहारी के गाड़ी को भी प्रदर्शनकारियों ने तोड़ दिया। विधायक ने कहा कि उनकी गाड़ी को भी तोड़ा गया है।इसमें 40 साल के भी लोग थे शामिल जो छात्र नहीं हो सकते हैं। ये लोग प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा के नेताओं को गंदी गालियां दे रहे थे। इस भीड़ में राजनीतिक दलों के लोग भी शामिल थे।

रोहतास में प्रदर्शनकारियों ने एनएच-2 पर स्थित टोल प्लाजा में आग लगा दी। उनको खदेड़ने के लिए पुलिस ने को हवाई फायरिंग करनी पड़ी। पाली में उग्र प्रर्दशन कर थाना पर पथराव किया गया। पुलिस की गाड़ी में आग लगा दी गई। स्थिति को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने लगातार 25 राउंड फायरिंग की। पटना जिले के दानापुर रेल मंडल के बिहटा रेलवे स्टेशन पर छात्रों ने रेलवे का चक्का जाम कर दिया। सुपौल में रेलवे स्टेशन परिसर में युवकों ने जमकर तोड़फोड़ की। पहले टायर जलाकर प्रदर्शन किया, फिर ट्रेन में आग लगा दी गई। समस्तीपुर और लखीसराय में भी ट्रेन को आग के हवाले कर दिया।

बेगूसराय में भी काफी बवाल हुआ। यहां प्रदर्शनकारियों के आक्रामक रवैये के कारण रेल और रोड परिचालन पूरी तरह से प्रभावित हो गया। जगह-जगह रेलवे ट्रैक को जमकर आगजनी किए जाने से बरौनी-कटिहार, बरौनी-हाजीपुर एवं बरौनी-हाथिदह-मोकामा रेलखंड पर परिचालन ठप हो गया है। एनएच पर भी यातायात ठप हो गया। सैकड़ों प्रदर्शनकारी बरौनी-कटिहार रेल खंड के लखमीनिया स्टेशन पर पहुंच गए तथा आगजनी कर रेलवे ट्रैक जाम कर दिया है। प्रदर्शनकारी, पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों की बात सुनने को तैयार नहीं हैं।

दूसरी ओर अग्निपथ योजना के विरोध में प्रदर्शन तथा मोहम्मद साहब पर विवादित टिप्पणी को लेकर संप्रदाय विशेष ने शुक्रवार को जुमे के दिन विरोध-प्रदर्शन के आह्वान को देखते हुए बेगूसराय में 97 जगहों पर मजिस्ट्रेट एवं पुलिस पदाधिकारी के साथ बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है।

डीएम एवं एसपी ने बताया कि जिसके मद्देनजर जिले के पांचों अनुमंडल में सभी रेलवे स्टेशन, प्रमुख चौक-चौराहा सहित 97 जगहों पर मजिस्ट्रेट, पुलिस पदाधिकारी एवं पुलिस कर्मियों को प्रतिनियुक्त किया गया है। सुरक्षा के मद्देनजर हेलमेट एवं बॉडी प्रोटेक्टर आदि भी दिए गए हैं। सभी अनुमंडल पदाधिकारी, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, थानाध्यक्ष निगरानी और कड़ी चौकसी के साथ गश्ती करते हुए विधि व्यवस्था सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है। समाहरणालय परिसर में 06243-222835 नियंत्रण कक्ष भी एक्टिव है। अग्निशमन विभाग एवं स्वास्थ्य सेवा को पूरी तैयारी के साथ अलर्ट मोड में रखा गया है। पल-पल की गतिविधि पर नजर रखी जा रही है।